Sunday , October 22 2017
Home / India / हिंद-वियतनाम‌ के दरमियान 7 मुआहिदों पर दस्तख़त,कलीदी बाहमी तआवुन पर तवज्जे

हिंद-वियतनाम‌ के दरमियान 7 मुआहिदों पर दस्तख़त,कलीदी बाहमी तआवुन पर तवज्जे

हिन्दुस्तान और वियत‌नाम में आज 7 मुआहिदों पर दस्तख़त किए जिन में कलीदी शोबा-ए-तेल में तआवुन को बढ़ाने से मुताल्लिक़ मुआहिदा शामिल है, जबकि दोनों मुल्कों ने बहीरा जुनूबी चीन में आबी गुज़रगाह की आज़ादी केलिए ज़ोर दिया, जो एसा रिमार्क है ज

हिन्दुस्तान और वियत‌नाम में आज 7 मुआहिदों पर दस्तख़त किए जिन में कलीदी शोबा-ए-तेल में तआवुन को बढ़ाने से मुताल्लिक़ मुआहिदा शामिल है, जबकि दोनों मुल्कों ने बहीरा जुनूबी चीन में आबी गुज़रगाह की आज़ादी केलिए ज़ोर दिया, जो एसा रिमार्क है जिस से चीन नाराज़ होसकता है जो इस समुंद्री इलाक़े पर अपने इलाक़ाई मुक़तदिर आला का दावा करता आया है।

ये मुआहिदों पर दस्तख़त सदर जम्हूरीया प्रण‌ब मुख‌र्जी के 4 रोज़ा सरकारी दौरा के दूसरे रोज़ किए गए, जिन्होंने अपने विय‌तनामी हम मंसब तरोइंग तान सांग के साथ यहां बात चीत मुनाक़िद की। दोनों मुल्कों ने कलीदी शराकतदारी की असास पर बाहमी तआवुन को गहराई और मज़बूती अता करने का फैसला किया जिस में सियासी, दिफ़ाई और सिक्योरिटी तआवुन, मआशी तआवुन, साईंस और टेक्नालोजी, सक़ाफ़्त और अवाम से अवाम रवाबित, तकनीकी तआवुन और हमा रुख़ी-ओ-इलाक़ाई तआवुन पर तवज्जे मर्कूज़ की जाएगी।

चीन को अमलन एक पयाम देने की कोशिश में दोनों मुल्कों ने जिन के 2007 में कलीदी रवाबित क़ायम हुए, अदा-ए-किया कि बहीरा जुनूबी चीन के मुतनाज़ा हुदूद में गुज़रने की आज़ादी पर रोक नहीं लगाना चाहिए और तमाम मुताल्लिक़ा फ़रीक़ों से इस तनाज़ुर में तहम्मुल बरतने की अपील की।

हिंद‍-विय‌तनाम मीटिंग के बाद जारी करदा मुशतर्का पयाम में कहा गया कि दोनों तरफ़ के क़ाइदीन ने एशिया-ए-में अमन , इस्तिहकाम की बरक़रारी और तरक़्क़ी-ओ-ख़ुशहाली को फ़रोग़ देने केलिए बाहम मिल झुल‌ कर कोशिश करने की अपनी ख़ाहिश और अपने अज़म का इआदा किया।

उन्होंने इत्तेफाक़‌ किया कि बहीरा मशरिक़ी चीन – बहीरा जुनूबी चीन में हसब ज़रूरत गुज़रने की आज़ादी पर रोक नहीं लगना चाहिए और तमाम तनाज़आत की यकसूई आफ़ाक़ी तौर पर मुस्लिमा बेन अल-अक़वामी क़ानून बिशमोल UNCLOS-1982 के उसूलों के मुताबिक़त में पुरअमन तरीकों से होना चाहिए।

चीन ने उन्नाबी हुदूद में अपनी इजारादारी क़ायम रखी है जिस पर विय‌तनाम और दीगर सरहदी ममालिक जैसे फ़ीलिपीन‌ नाराज़ है। दोनों अक़्वाम ने कलीदी पार्टनरशिप के इदारा जाती तरीका कार के तहत बिलख़सूस जवाइंट कमीशन मीटिंग के ज़रिए अपने हरीफ़ तर राबिता को जारी रखने से भी इत्तिफ़ाक़ किया।

इस तरीक़े के तहत दफ़्तार-ए-ख़ारजा की मुशावरतें और कलीदी मुज़ाकरात शामिल हैं। वफ़द सतह की बात चीत के बाद दोनों तरफ़ के क़ाइदीन ने मुख़्तलिफ़ शख्सियतों और से नर हुकूमती ओहदेदारों की मौजूदगी में 7 मुख़्तलिफ़ मौज़ूआत पर मुआहिदों पर दस्तख़त की निगरानी की।

मुशतर्का बयान में कहा गया कि सदर सांग और सदर जम्हूरीया मुखर्जी ने समाजी-मआशी तरक्कियों और अपने मुताल्लिक़ा मुल्कों की ख़ारिजा पॉलीसी , बाहमी ताल्लुक़ात और बाहमी मुफ़ाद के मसाइल पर तबादला ख़्याल किया। प्रण्बअ मुख‌र्जी ने वियत‌नाम की हुकूमत और इस के अवाम को हालिया बरसों में उन की नुमायां कारगुज़ारी पर मुबारकबाद भी पेश की जबकि सदर सांग ने हिन्दुस्तान को हालिया लोक सभा इंतेख़ाबात की कामयाब तकमील पर सराहा।

TOPPOPULARRECENT