Thursday , October 19 2017
Home / India / हिन्दुस्तान अब गेहूं और कपास की दरआमद पर मुनहसिर नहीं: पवार

हिन्दुस्तान अब गेहूं और कपास की दरआमद पर मुनहसिर नहीं: पवार

मुल्क ने गेहूं और कपास की बैरूनी ममालिक को बरामद करके 2.32 लाख करोड़ रुपये का बैरूनी ज़र-ए-मुबादला कमाया है। मर्कज़ी वज़ीर ज़राअत शरद पवार ने आँजहानी पद्मश्री भठि साहिब वृत्तिक और इंदू ताई वृत्तिक विश्राम धाम की तक़रीब इफ़्तेताह के बाद तक़र

मुल्क ने गेहूं और कपास की बैरूनी ममालिक को बरामद करके 2.32 लाख करोड़ रुपये का बैरूनी ज़र-ए-मुबादला कमाया है। मर्कज़ी वज़ीर ज़राअत शरद पवार ने आँजहानी पद्मश्री भठि साहिब वृत्तिक और इंदू ताई वृत्तिक विश्राम धाम की तक़रीब इफ़्तेताह के बाद तक़रीर करते हुए कहा कि हमारा मुल्क पाँच साल क़ब्ल गेहूं और कपास की दरआमद पर इन्हिसार करता था, लेकिन अब सूरत-ए-हाल तब्दील होगई है और हम उन्ही ज़रई एशिया-ए-की बरामद के ज़रीया बैरूनी ममालिक से काबुल लिहाज़ ज़र-ए-मुबादला हासिल कररहा है।

उन्होंने अपनी तक़रीर में कहा कि विश्राम धाम 2 करोड़ रुपये की लागत से ज़िला पाल घर के इलाक़े केल्वी में तामीर किया गया है। उन्होंने कहा कि सोमा वंशी खुशतरेआ महासंघ ने आँजहानी भठि साहिब वृत्तिक की यौम पैदाइश तक़रीब की यादगार के तौर पर ये इमारत तामीर की है। भठि साहिब थाने ज़िला के एक साहिब बसीरत समाजी कारकुन थे।

TOPPOPULARRECENT