Saturday , October 21 2017
Home / Hyderabad News / हुकूमत इंजीनीयरिंग और टेक्नीकल कॉलिजस को क़वाइद का पाबंद बनाने कोशां

हुकूमत इंजीनीयरिंग और टेक्नीकल कॉलिजस को क़वाइद का पाबंद बनाने कोशां

हैदराबाद ।१६ मई : ( सियासत न्यूज़ ) : रियास्ती हुकूमत ने रियासत में मौजूद इंजीनीयरिंग और टेक्नीकल कॉलिजस के साथ एक तवील बेहस के बाद ये देखने के लिए कि आया ये कॉलिजस ऑल इंडिया कौंसल फ़ार टेक्नीकल एजूकेशन के क़वाइद पर अमल कररहे हैं या न

हैदराबाद ।१६ मई : ( सियासत न्यूज़ ) : रियास्ती हुकूमत ने रियासत में मौजूद इंजीनीयरिंग और टेक्नीकल कॉलिजस के साथ एक तवील बेहस के बाद ये देखने के लिए कि आया ये कॉलिजस ऑल इंडिया कौंसल फ़ार टेक्नीकल एजूकेशन के क़वाइद पर अमल कररहे हैं या नहीं स्टेट फ़ीस रैगूलेटरी कमेटी को मुतहर्रिक कर दिया है ।

रिपोर्ट की असास पर रियास्ती हुकूमत को कॉलिजस के उल-हाक़ को ख़तन करने का इख़तियार है और हुकूमत इन ओ सी की मंसूख़ के लिए कौंसल को मकतूब तहरीर करसकती है । वाज़िह रहे कि रियासत में 3000 एमबी ए , एमसी ए , बी ऐड और दीगर टेक्नीकल कॉलिजस हैं । जिन्हों ने कुछ अर्सा क़बल हर सहि माही में फ़ीस रीमबरसमनट की रक़म जारी करने का रियास्ती हुकूमत से मुतालिबा किया था जिस से हुकूमत ने इत्तिफ़ाक़ किया था और तालीमी साल 2011-12 के लिए 4500 करोड़ रुपय बतौर फ़ीस रीमबरसमनट जारी किए थे ।

ताहम हुकूमत ने माह अक्टूबर 2011 में सिर्फ एक हज़ार करोड़ रुपय ही जारी किए जिस पर कॉलिजस हाईकोर्ट से रुजू होते हुए बाक़ी रक़म की इजराई के लिए रियास्ती हुकूमत को हिदायत देने की दरख़ास्त की । जिस के बाद हाईकोर्ट ने टेक्नीकल डिपार्टमैंट और ए पी हाइर एजूकेशन से एक मालूमाती रिपोर्ट दाख़िल करने के लिए कहा । रियास्ती हुकूमत ने हाईकोर्ट में एक रिपोर्ट दाख़िल की और सहि माही असास पर फ़ीस रीमबरसमनट रक़म जारी करने का तीक़न दिया लेकिन वो फंड्स की कमी के बाइस इस में नाकाम होगई । हाईकोर्ट ने एक माह के अंदर पूरी रक़म जारी करने के लिए रियास्ती हुकूमत को हिदायत दी जिस पर हुकूमत सुप्रीम कोर्ट से रुजू हुई जिस ने इस के प्रोसीजरस तलब किए और हुकूमत ने दस सफ़हात की रिपोर्ट दाख़िल की ।

हुकूमत ने कहा कि कॉलिजस मयार बरक़रार नहीं रख रहे हैं और स्टाफ़ को यू जी सी क़वाइद के मुताबिक़ तनख़्वाहें अदा नहीं कररहे हैं । सुप्रीम कोर्ट ने कॉलिज मैनिजमंटस से उन के तदरीसी और ग़ैर तदरीसी स्टाफ़ पर होने वाले ख़र्च के इलावा तलबा को फ़राहम की जाने वाली सहूलतों पर रिपोर्ट दाख़िल करने केलिए कहा और साथ ही रियास्ती हुकूमत को हिदायत दी कि अख़बार में इश्तिहार देते हुए इन कॉलिजस की तमाम तफ़सीलात तलब करे ।

जिस पर हुकूमत ने अख़बारात में इश्तिहार के ज़रीया ये तफ़सीलात तलब किए जिस पर सिर्फ 65 कॉलिजस ही ने ये तफ़सीलात पेश कीं । उन के मिनजुमला सिर्फ़ 15 कॉलिजस ही ने मुक़र्ररा फॉर्मट में तफ़सीलात दाख़िल किए ताहम 15 के मिनजुमला सिर्फ़ 4 कॉलिजस की क़वाइद पर अमल करने वालों की हैसियत से तसदीक़ की गई और रियास्ती हुकूमत ने भी इस की तौसीक़ की ।।

TOPPOPULARRECENT