Tuesday , October 24 2017
Home / Hyderabad News / हुकूमत और पार्टी मुझे नज़रअंदाज कर रही है डाक्टर शंकर राव

हुकूमत और पार्टी मुझे नज़रअंदाज कर रही है डाक्टर शंकर राव

हैदराबाद /30 नवंबर (सियासत न्यूज़) रियास्ती वज़ीर हैंडलूम-ओ-टेक्सटाइल डाक्टर शंकर रावने इस मर्तबा हुकूमत और पार्टी को तन्क़ीद का निशाना बनाते हुए उन्हें सरकारी-ओ-तंज़ीमी प्रोग्रामों में नजरअंदाज़ करने का इल्ज़ाम आइद किया और इस्

हैदराबाद /30 नवंबर (सियासत न्यूज़) रियास्ती वज़ीर हैंडलूम-ओ-टेक्सटाइल डाक्टर शंकर रावने इस मर्तबा हुकूमत और पार्टी को तन्क़ीद का निशाना बनाते हुए उन्हें सरकारी-ओ-तंज़ीमी प्रोग्रामों में नजरअंदाज़ करने का इल्ज़ाम आइद किया और इस्तिफ़सार किया कि क्या वो हुकूमत और पार्टी के नुमाइंदा नहीं हैं?।

आज यहां एक प्रैस कान्फ़्रैंस से ख़िताब करते हुए डाक्टर शंकर रावने कहा कि वो कांग्रेस के सीनियर क़ाइद हैं और साथ ही रियास्ती वज़ीर भी हैं, ताहम चीफ़ मिनिस्टर एन किरण कुमार रेड्डी और सदर प्रदेश कांग्रेस कमेटी मिस्टर बी सत्य ना रावना हुकूमत और पार्टी के प्रोग्रामों में उन्हें यकसर नजरअंदाज़ कर रहे हैं। वो अपनी वोज़ारत के तेहत ग़रीब अवाम की फ़लाह-ओ-बहबूद और तरक़्क़ी के लिए बहुत कुछ करने का इरादा रखते हैं, कई इसकीमात उन के ज़हन में हैं, लेकिन उन की जानिब से तलब किए जाने वाले जायज़ा इजलासों में आली ओहदादार शरीक नहीं होती। वो भी वज़ारत में शहर की नुमाइंदगी करते हैं, लेकिन शहर में मुनाक़िद होने वाले सरकारी प्रोग्राम्स से उन्हें अलग थलग रखा जा रहा है।

ना ही उन से मुशावरत की जा रही है और ना ही उन्हें प्रोग्राम्स में मदऊ किया जा रहा है। वज़ीर लेबर मिस्टर डी नागेंद्र ने शहर में रचा बंडा प्रोग्राम केलिए ओहदा दारों और पार्टी क़ाइदीन से मुशावरत की है, लेकिन उन्हें नजरअंदाज़ करदिया गया। वज़ीर मिस्टर पी लकशमया का हैदराबाद से कोई ताअल्लुक़ नहीं है, मगर उन से मुशावरत की जा रही है।

इन के हलक़ा असम्बली में वज़ीरट्रांसपोर्ट-ओ-सदर प्रदेश कांग्रेस कमेटी मिस्टर बी सत्य ना रावना ने चंद नई आर टी सी बसों का इफ़्तिताह किया है, मगर इस प्रोग्राम में भी उन्हें नजरअंदाज़ करदिया गया। हुकूमत और पार्टी उन्हें नजरअंदाज़ करसकती है, मगर वो अपनी ख़िदमात और ताल्लुक़ातकी वजह से अवाम के दिलों में अपने लिए जगह रखते हैं। इन के ख़िलाफ़ साज़िश की जा रही है या इत्तिफ़ाक़ है? वो इस बात से लाइलम हैं। लेकिन उन के साथ जो कुछ भी हो रहा है, वो ठीक नहीं है। ऐसा लगता है कि चंद लोग उन की तौहीन करना चाहते हैं, जिस का उन्हें बेहद अफ़सोस है।

TOPPOPULARRECENT