Friday , October 20 2017
Home / India / हुकूमत पार्लीमैंट की कार्रवाई में दिलचस्पी नहीं रखती

हुकूमत पार्लीमैंट की कार्रवाई में दिलचस्पी नहीं रखती

रीटेल शोबा में रास्त ग़ैर मुल्की सरमायाकारी पर मुबाहिस केलिए एसे क़ायदे के तहत जिस से राय दही का लज़ूम आइद ना होता हो, हुकूमत के इसरार को ग़ैर वाजिबी क़रार देते हुए बी जे पी क़ाइद अरूण जेटली ने आज कहा कि हुकूमत पार्लीमैंट की कार्रवाई जार

रीटेल शोबा में रास्त ग़ैर मुल्की सरमायाकारी पर मुबाहिस केलिए एसे क़ायदे के तहत जिस से राय दही का लज़ूम आइद ना होता हो, हुकूमत के इसरार को ग़ैर वाजिबी क़रार देते हुए बी जे पी क़ाइद अरूण जेटली ने आज कहा कि हुकूमत पार्लीमैंट की कार्रवाई जारी रखने की इजाज़त देने से कोई दिलचस्पी नहीं रखती ।

क़ाइद अप्पोज़ीशन राज्य सभा अरूण जेटली ने कहा कि हुकूमत की ये दलील कि राय दही के बगै़र मुबाहिस करवाए जाएं बेबुनियाद है और क़वाइद बे मक़सद नहीं बनाए गए थे । उन्होंने कहा कि जमहूरीयत की रूह राय दही है अवाम का इरादा ख़ुदमुख़तारी का इरादा है । बी जे पी क़ाइद ने कहा कि हुकूमत ये इद्दिआ नहीं करसकती कि इस मसले पर बातचीत की जा सकती है लेकिन राय दही नहीं की जा सकती ।

उन्होंने कहा कि रायदही और जमहूरीयत साथ साथ बाक़ी रहते हैं । दोनों एक दूसरे से अलग नहीं किए जा सकते ,एसे ग़ैर वाजिबी और नाक़ाबिल क़बूल दलायल दे कर हुकूमत अपने अज़ाइम ज़ाहिर कररही है कि वो पार्लीमैंट की कार्रवाई जारी रखने में दिलचस्पी नहीं रखती ।उन्होंने साबिक़ वज़ीर गिरधारी लाल डोगरा की 25 वीं बरसी के मौके पर एक तक़रीब में ख़िराज-ए-अक़ीदत पेश करने के बाद प्रैस कान्फ़्रैंस से ख़िताब करते हुए सवालों के जवाब दीए ।

अफ़ज़ल गुरु को फांसी की सज़ा के बारे में सवाल का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि क़ानून को अपना काम करने की इजाज़त दी जानी चाहीए । अफ़ज़ल गुरू की सज़ाए मौत को सुप्रीम कोर्ट की तरफ‌ से तौसीक़ हासिल होचुकी है । इस तक़रीब के मेहमान ख़ुसूसी चीफ़ मिनिस्टर उमर अबदुल्लाह ने अख़बारी नुमाइंदों से बातचीत करने से इनकार कर दिया ।

राम जेठमलानी के साथ ज़बानी जंग के बारे में सवाल का जवाब देने से बी जे पी क़ाइद अरूण जेटली ने भी इनकार कर दिया । राम जेठमलानी ने उन पर इल्ज़ाम आइद किया है कि सी बी आई के डायरैक्टर के तक़र्रुर पर तनाज़ा में अरूण जेटली का भी किरदार हैं। राम जेठमलानी के बारे में जिन्हें पार्टी से मुअत्तल किया गया है सवाल का जवाब देते हुए जेटली ने कहा कि उन के ख़्याल में राम जेठमलानी को मज़ीद कोई जवाब देने की ज़रूरत नहीं है ।

इस सवाल पर कि क्या बी जे पी यशवंत सिन्हा और शुत्रो घुन सिन्हा के साथ नरम रवैय्या इख़तियार कररही है हालाँकि इन दोनों ने भी गडकरी के अस्तीफे का मुतालिबा किया है । उन्होंने कहा कि इन तमाम मसाइल पर हम तबादला-ए-ख़्याल नहीं किया करते । गडकरी को सख़्त लब-ओ-लहजा पर मबनी खत‌ रवाना करते हुए राम जेठमलानी ने इल्ज़ाम आइद किया है कि सी बी आई के डायरैक्टर के तक़र्रुर पर तनाज़ा में अरूण जेटली ने भी अपना किरदार अदा किया है ।

TOPPOPULARRECENT