Sunday , October 22 2017
Home / Uttar Pradesh / हुकूमत से नाखुश हैं अक़लियत

हुकूमत से नाखुश हैं अक़लियत

क़ौमी अक़लियत कमीशन के मेम्बर डॉ अजायब सिंह ने कहा की रियासत के अक्लियत रियासत हुकूमत से खफा हैं। उनके फ्लाही मंसूबे लागू नहीं हो रही हैं। वक्फ ट्रायबुनल बना है, पर एक भी मामले की सुनवाई नहीं हुयी। अक्लियत कमीशन के पास कोई ताक़त नहीं

क़ौमी अक़लियत कमीशन के मेम्बर डॉ अजायब सिंह ने कहा की रियासत के अक्लियत रियासत हुकूमत से खफा हैं। उनके फ्लाही मंसूबे लागू नहीं हो रही हैं। वक्फ ट्रायबुनल बना है, पर एक भी मामले की सुनवाई नहीं हुयी। अक्लियत कमीशन के पास कोई ताक़त नहीं है। अक़लियत फाइनेंस कमीशन ने अब तक काम शुरू नहीं किया है। लोगों को जानकारी ही नहीं की इसका दफ्तर कहाँ है और इसके मैनेजमेंट कौन हैं। रियासत में अक़लियत डाइरेक्टोरेट भी नहीं हैं। इसके अक्लियत फ्लाह की मंसूबे ठीक से लागू नहीं हो रही है। वे इन मुद्दो पर रियासत के चीफ़ सेक्रेटरी से बात करेंगे।

ये बात उन्होने गेस्ट हाउस में मुखतलिफ़ अक़लियतों तबकों से मिलने के बाद कही। इस मौके पर अक़लियतों ने उनकी लैंगवेज़ को बढ़ावा, उर्दू अकादमी की तशकील, मदरसों की बदहाली, असातिज़ा की कमी, लातेहार के मुरपा गाँव में लंबे वक़्त से एक तबके का बाईकोट, मरकज़ी हुकूमत के मसूबा लागू न होने, इंटरव्यू बोर्ड में अक़लियतों का नुमायंदगी न होने, अलग रिहाईशि कॉलोनी बनाने, सरकारी मंसूबों के मुक़ामी ज़ुबान को इश्तिहार, दारों को अक़लियत सेर्टिफिकेट न मिलने व दीगर कई बातों को सामने रखा। चर्चा में रियासत अक़लियत कमीशन के सदर डॉ शाहिद अख्तर, आयुब अंसारी, भूषण तिर्की, मौलाना असगर मिसबाही, रफ़ीक़ अनवर, डॉ हरमीनद्र वीर सिंह, औरंगजेब खान, मोहम्मद आसिफ, मोहम्मद सारिब व दीगर शामिल थे।

TOPPOPULARRECENT