Monday , October 23 2017
Home / Hyderabad News / हुसैनसागर की सफ़ाई के लिए चीफ़ मिनिस्टर की मंज़ूरी

हुसैनसागर की सफ़ाई के लिए चीफ़ मिनिस्टर की मंज़ूरी

तेलंगाना हुकूमत ने शहरे हैदराबाद के मशहूर हुसैनसागर झील की सफ़ाई के लिए इक़दामात का आग़ाज़ किया है और इस सिलसिले में हुकूमत चीफ़ मिनिस्टर के चन्द्रशेखर राव ने हरी झंडी दिखाते हुए हुसैनसागर में एक क़तरा भी गंदा पानी ना आने और इस का तदा

तेलंगाना हुकूमत ने शहरे हैदराबाद के मशहूर हुसैनसागर झील की सफ़ाई के लिए इक़दामात का आग़ाज़ किया है और इस सिलसिले में हुकूमत चीफ़ मिनिस्टर के चन्द्रशेखर राव ने हरी झंडी दिखाते हुए हुसैनसागर में एक क़तरा भी गंदा पानी ना आने और इस का तदारुक करने के मक़सद से एक नए नाले की तामीर करने का फ़ैसला किया।

और इस नए नाले की तामीर के लिए हुकूमत ने 58.96 करोड़ रुपये मंज़ूर कर के जी ओ नंबर 60 भी जारी कर दिया है। बावसूक़ सरकारी ज़राए के मुताबिक़ बताया जाता हैके चीफ़ मिनिस्टर के चन्द्रशेखर राव ने हुसैनसागर को (सुंदरसागर)ख़ूबसूरत बनाने और शहर के अवाम के लिए इंतेहाई एहमीयत के हामिल तफ़रीही मुक़ाम में तबदील करना चाहते हैं और हुसैनसागर झील को गंदगी से बिलकुल्लिया तौर पर पाक बनाने के लिए कोकटपली नाला डाइवर्सिटी करने नाले को मोड़ने के एक हिस्से के तौर पर ख़लासीगुड़ा नाले तक एक बड़ा नया नाला तामीर करने के लिए चीफ़ मिनिस्टर ने मुताल्लिक़ा ओहदेदारों को हिदायात दी हैं और साथ ही साथ तामीरी कामों का फ़ौरी तौर पर आग़ाज़ करने का भी हुक्म दिया गया है बताया जाता हैके इस सिलसिले में आला ओहदेदारों ने चार पैकेजस में इस तामीरी कामों की तक़सीम किया है और टेंडरस तलबी के अमल का भी आग़ाज़ होगया।

इस तरह तेंडरस में कम ख़र्च (यानी कम मसारिफ़ में) मुकम्मिल करने वाले दर्ज करने टेंडर गुज़ारों को मुंतख़ब करके कामों की अंजाम दही के लिए इजाज़त दे दी जाएगी। इसी ज़राए के मुताबिक़ बताया जाता हैके कोकटपली से आने वाले कीमियावी मादों के पानी को हुसैनसागर में आने से रोकने के लिए कोकटपली से ख़लासीगुड़ा नाले के ज़रीये मैरिट होटल के नाले में कीमियावी मादों के पानी को छोड़ जाएगा लेकिन इस मुक़ाम से तक़रीबन तीन कीलो मीटर तक 650/2200/2400एम एम की गुंजाइश वाले पाइपलाइन की तंसीब अमल में लाई जाएगी और मैरिट होटल के नाले के गंदे पानी को मोड़ते हुए वहां से अंबरपेट एसटी पी (सीवरेज टरटीमनट प्लांट) तक लेजाया जाएगा और इस प्लांट में पानी को साफ़ करने के बाद ही मुसी नदी में पानी छोड़ा जाएगा इस तरह आइन्दा हर रोज़ 500 एम एलडी गंदा पानी भी आने की सूरत में हुसैनसागर झील का पानी ख़राब होने का कोई इमकान ना पाए जाने का ओहदेदारों ने इज़हार किया है।

बताया जाता हैके मज़कूरा पाइपलाइन के कामों के लिए 35 करोड़ और 300 आर एमिटी मेक्रो टनल के कामों के लिए 14.40 करोड़ रुपये के अलावा 250 मीटर्स तवील 2400 एम एम पाइपलाइन के कामों के लिए 1.20 करोड़ रुपये और नेक्लस रोड के पास ऑल ऐंड डी (इंटरीशन ऐंड डायवर्सन) कामों के लिए 3 करोड़ रुपये के साथ साथ दुसरे नौईयत के कामों के लिए 5.36 करोड़ रुपये ख़र्च किए जाऐंगे और इस तरह हुसैनसागर झील को पाक-ओ-साफ़ बनाने के इक़दामात किए जाऐंगे।

TOPPOPULARRECENT