Tuesday , October 24 2017
Home / District News / हैदराबाद की तरक़्क़ी निज़ाम हुकूमत की मरहून-ए-मिन्नत

हैदराबाद की तरक़्क़ी निज़ाम हुकूमत की मरहून-ए-मिन्नत

सीमांध्र क़ाइदीन की रूकावटें और मुख़ालफ़तों के बावजूद अलहदा रियासत तेलंगाना का क़ियाम होकर रहेगा। असेंबली में तेलंगाना मुसव्वदा बिल पर मुबाहिसा के मौके पर निज़ाम हुकूमत पर आइद किए गए इल्ज़ामात की सख़्ती से मुज़म्मत करते हुए सीमा सीम

सीमांध्र क़ाइदीन की रूकावटें और मुख़ालफ़तों के बावजूद अलहदा रियासत तेलंगाना का क़ियाम होकर रहेगा। असेंबली में तेलंगाना मुसव्वदा बिल पर मुबाहिसा के मौके पर निज़ाम हुकूमत पर आइद किए गए इल्ज़ामात की सख़्ती से मुज़म्मत करते हुए सीमा सीमांध्र क़ाइदीन तारीख को मसख़ कर रहे हैं।

ये बात रुकने पार्लियामेंट नलगेंडा जी सुखेन्द्र रेड्डी ने अपनी रिहायश घर पर अख़बारी नुमाइंदों से मुख़ातब करते हुए बताई। उन्होंने कहा कि हैदराबाद की तरक़्क़ी निज़ाम दौरे हुकूमत में ही हुई है हर शोबा में निज़ाम दौर में ही तरक़्क़ी हुई।

मुत्तहदा रियासत में इलाके में बिलख़सूस हैदराबाद में जायदादों की लूट खसूट , सियासी रक़ाबतों‍ ओ‍ दुसरे घोटालें में इज़ाफ़ा हुआ है। निज़ाम के दौरे हकूमत में तालीम के फ़रोग़ के लिए क़ायम की गई उस्मानिया यूनीवर्सिटी आज ना सिर्फ़ मुल्क बल्कि आलमी सतह पर एक अलहदा मुक़ाम हासिल है और तमाम तबक़ात में ख़ुशहाली थी लेकिन आंध्र के इंज़िमाम के बाद इलाके को पसमांदा करदिया गया।

निज़ाम की हुकूमत में सिर्फ़ एक क़ासिम रज़वी था लेकिन मुत्तहदा आंध्र प्रदेश में तमाम क़ासिम रज़वी का रोल अदा कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि आंध्र प्रदेश में अलाहिदा रियासत की मुख़ालिफ़त करने वाले किरण कुमार रेड्डी , चंद्राबाबू नायडू और जगन मोहन रेड्डी की जायदादों में इज़ाफ़ा हुआ है और वो पहाड़ के बराबर हैं।

उन्होंने कहा कि निज़ाम हुकूमत के ख़िलाफ़ मुसल्लह जद्द-ओ-जहद नहीं हुई बल्कि जागीरदाराना निज़ाम और जम्हूरियत की बहाली के लिए जद्द-ओ-जहद की गई थी।

सीमांध्रई क़ाइदीन तारीख को मज़ख़ कर रहे हैं और अवाम को गुमराह करते हुए अपनी सियासी बक़ा की कोशिशें कर रहे हैं।

TOPPOPULARRECENT