Friday , September 22 2017
Home / Hyderabad News / हैदराबाद के 6 लाख ख़ानदानों के बर्क़ी-ओ-आबरसानी बक़ायाजात माफ़

हैदराबाद के 6 लाख ख़ानदानों के बर्क़ी-ओ-आबरसानी बक़ायाजात माफ़

हैदराबाद 04 दिसंबर: चीफ़ मिनिस्टर के चन्द्रशेखर राव‌ ने ग्रेटर हैदराबाद मुंसिपल कारपोरेशन के चुनाव के पेश-ए-नज़र 6 लाख ग़रीब ख़ानदानों के लिए बर्क़ी और आबरसानी के बक़ायाजात की माफ़ी का फ़ैसला किया है।

इस सिलसिले में शहर से ताल्लुक़ रखने वाले वुज़रा और मुख़्तलिफ़ मह्कमाजात के ओहदेदारों के साथ मीटिंग मुनाक़िद करते हुए ये फ़ैसला किया गया।

चीफ़ मिनिस्टर के दफ़्तर के मुताबिक़ 6 लाख ग़रीब ख़ानदानों के बर्क़ी बक़ायाजात 128 करोड़ हैं जबकि आबरसानी के बक़ायाजात 290 करोड़ हैं। इस तरह मजमूई तौर पर 418 करोड़ रुपये के बक़ायाजात माफ़ करने का फ़ैसला किया गया। वुज़रा पी श्रीनिवास यादव, पदमा राव‌ के अलावा बर्क़ी, आबरसानी और ग्रेटर हैदराबाद मुंसिपल कारपोरेशन के ओहदेदार मीटिंग में शरीक थे। बताया जाता हैके मजालिस मुक़ामी की 12 कौंसिल नशिस्तों के चुनाव के पेशे नज़र चुनाव ज़ाबता अख़लाक़ के नफ़ाज़ के सबब सरकारी तौर पर इस का एलान नहीं किया जाएगा ताहम कौंसिल के चुनाव की तकमील और चुनाव ज़ाबता अख़लाक़ की बरख़ास्तगी के बाद इस सिलसिले में बाक़ायदा अहकामात जारी किए जाऐंगे।

ज़राए ने बताया कि चीफ़ मिनिस्टर ने ओहदेदारों से शहर में बर्क़ी और आबरसानी के बक़ायाजात के बारे में तफ़सीलात हासिल कीं। खासतौर पर ग़रीब ख़ानदानों के बक़ायाजात के बारे में आदाद-ओ-शुमार हासिल किए गए और हुकूमत ने 418 करोड़ रुपये की माफ़ी का फ़ैसला किया है।

ये फ़ैसला ग्रेटर हैदराबाद मुंसिपल कारपोरेशन के मुजव्वज़ा चुनाव के पेशे नज़र किया गया है ताके ग़रीब राय दहिंदों की ताईद हासिल की जा सके। चीफ़ मिनिस्टर के इस फ़ैसले का अगरचे सरकारी तौर पर एलान नहीं किया गया ताहम ग्रेटर हैदराबाद के पार्टी कैडर को इस की इत्तेला दे दी गई जिसके बाद टी आर एस हेडक्वार्टर तेलंगाना भवन में पार्टी क़ाइदीन और कारकुनों ने जश्न मनाया।

पार्टी के ग्रेटर हैदराबाद सदर एम हनुमंत राव‌ की क़ियादत में चीफ़ मिनिस्टर की तस्वीर को दूध से नहलाया गया और ज़बरदस्त आतिशबाज़ी की गई। पार्टी कारकुनों ने जश्न मनाया और मिठाईयां तक़सीम की गईं। टी आर एस भवन के अलावा शहर के बेशतर बलदी डीवीझ़नस में मुक़ामी टी आर एस क़ाइदीन और कारकुनों ने हुकूमत के इस फ़ैसले का ख़ौरमक़दम करते हुए जश्न मनाया और आतिशबाज़ी की।

TOPPOPULARRECENT