Friday , October 20 2017
Home / Hyderabad News / हैदराबाद में तमाम सरकारी ज़मीनात की निशानदेही और तहफ़्फ़ुज़

हैदराबाद में तमाम सरकारी ज़मीनात की निशानदेही और तहफ़्फ़ुज़

तेलंगाना राष़्ट्रा समीती की ज़ेरे क़ियादत हुकूमत रियासत तेलंगाना अवामी तवक़्क़ुआत के मुताबिक़ फ़लाह-ओ-बहबूदी प्रोग्रामों को रूबा अमल लाने-ओ-करप्शन से पाक नज़म-ओ-नसक़ फ़राहम करने के लिए अपनी मुम्किना कोशिश कररही है और सरकारी नज़म-ओ-नसक

तेलंगाना राष़्ट्रा समीती की ज़ेरे क़ियादत हुकूमत रियासत तेलंगाना अवामी तवक़्क़ुआत के मुताबिक़ फ़लाह-ओ-बहबूदी प्रोग्रामों को रूबा अमल लाने-ओ-करप्शन से पाक नज़म-ओ-नसक़ फ़राहम करने के लिए अपनी मुम्किना कोशिश कररही है और सरकारी नज़म-ओ-नसक़ को भी बेहतर अंदाज़ में चलाने को यक़ीनी बनाने सहूलतों की फ़राहमी में भी हुकूमत कभी पीछे नहीं रहेगी।

यहां ज़िला कलेक्टर ऑफ़िस हैदराबाद दफ़्तर का मुआइना करने के बाद अपना इज़हार-ए-ख़्याल करते हुए डिप्टी चीफ़ मिनिस्टर-ओ-उमूर इंचार्ज क़लमदान महिकमा रेवेंयू मुहम्मद महमूद अली ने ये बात कही और ओहदेदारान-ओ-मुलाज़िमीन ज़िला कलकटोरीट पर ज़ोर दिया कि रियासत तेलंगाना की राजधानी (सदर मुक़ाम ) के अहम ज़िला हैदराबाद पर अवामी तवक़्क़ुआत कुछ ज़्यादा ही हुआ करते हैं और इस शहरे हैदराबाद में तमाम तबक़ात से ताल्लुक़ रखने के अलावा दुसरे पड़ोसी रियास्तों के अवाम भी अपनी गुज़र बसर करते हैं और इन तमाम के साथ भी यकसाँ इंसाफ़ किया जाना चाहीए।

उन्होंने ज़िला कलेक्टर ऑफ़िस को असरी सहूलतों से आरास्ता करने के साथ साथ सरवीस की मख़लवा जायदादों को आजलाना तौर पर पर करने का यकीन दिया। मुहम्मद महमूद अली ने कहा कि शहरे हैदराबाद में पाई जाने वाली सरकारी ज़मीनात की निशानदेही कर के इन ज़मीनात का मुकम्मिल तहफ़्फ़ुज़ करने की भी ज़रूर है।

उन्होंने कहा कि ज़िला हैदराबाद के मुख़्तलिफ़ मह्कमाजात के दफ़ातिर एक ही मुक़ाम पर (एक ही काम्प्लेक्स में) रहने से नज़म-ओ-नसक़ को आसान-ओ-बेहतर बनाया जा सकता है बादअज़ां उन्होंने हालिया दिनों के दौरान शहरे हैदराबाद में किसी इजाज़त के बगै़र और क़वानीन की ख़िलाफ़ वरज़ीयां करते हुए चलाए जानेवाले मदारिस को बंद करदिए जाने के मसले पर अपने रद्द-ए-अमल का इज़हार करते हुए डिप्टी चीफ़ मिनिस्टर तेलंगाना ने कहा कि हुकूमत तेलंगाना ने केजी ता पी जी मुफ़्त तालीम फ़राहम करने का फ़ैसला करचुकी है लिहाज़ा मुताल्लिक़ा स्कूल इंतेज़ामियों को चाहीए कि वो क़वानीन पर अमल करते हुए अपने मदारिस की बाक़ायदा तौर पर मंज़ूरीयां हासिल करलीं और साथ ही साथ मुताल्लिक़ा ओहदेदारों को भी इस बात की हिदायत दी कि मंज़ूरियों के हुसूल के लिए दी जाने वाली दरख़ास्तों की जल्द से जल्द यकसूई करते हुए स्कूलों के लिए अजामत नामों की इजराई को यक़ीनी बनाने के इक़दामात करें।

इस मौके पर ज़िला कलेक्टर हैदराबाद मुकेश कुमार मीना ने इज़हार-ए-ख़्याल करते हुए कहा कि पिछ्ले चार साल पहले क़ानून हक़ तालीम को रूबा अमल लाया जा रहा है लेकिन कोई भी स्कूल इंतिज़ामियों की तरफ से अपना कोई रद्द-ए-अमल ज़ाहिर ना करते हुए अपनी मनमानी तौर पर इक़दामात कररहे हैं जबकि हर स्कूल में कम से कम 25 फ़ीसद तलबा को मुफ़्त तालीमी सहूलतें फ़राहम करके और क़वाद-ओ-ज़वाबत के मुताबिक़ ही फ़ीस वसूल करना चाहीए लेकिन स्कूल इंतेज़ामीया ने अपनी मनमानी करते हुए अंधा धुंद फ़ीस वसूल करने की शिकायत ज़िला इंतेज़ामीया को वसूली हुई हैं और स्कूल इंतेज़ामियों को हर साल सख़्त इंतिबाह दिया जा रहा हैके वो इजाज़त हासिल करलीं लेकिन स्कूल इंतेज़ामियों की तरफ से ख़िलाफ़ वरज़ीयों का सिलसिला जारी है जिस की वजह से मजबुरन इजाज़त नारखते हुए बगै़र इजाज़त चलाए जाने वाले स्कूलों को बंद करदेना पड़ा।

और आइनिदा भी इजामत ना रखने वाले मदारिस को चलाना हरगिज़ मुम्किन नहीं होसकेगा और इतने ही सख़्त इक़दामात किए जाऐंगे।

मुहम्मद महमूद अली के ज़िला कलेक्टर ऑफ़िस पहूंचने पर मुकेश कुमार मीना ज़िला कलेक्टर हैदराबाद ने महमूद अली को गुलदस्ता पेश करके शानदार ख़ैर मुक़द्दम किया।

TOPPOPULARRECENT