Friday , July 28 2017
Home / Delhi / Mumbai / होम्योपैथिक दवा विश्व नियमों के लिए अनुबंध

होम्योपैथिक दवा विश्व नियमों के लिए अनुबंध

नई दिल्ली: होम्योपैथिक दवाओं के भरपूर क्षमता का लाभ लेने और वैश्विक उनके प्रभावी कानूनों में व्यापक सहयोग के लिए होम्योपैथी फार्मा कोर्पोरेशन ऑफ द युनाइटेड स्टेट्स (एचपीसी यूएस), भारतीय औषधि होम्योपैथिक दवाई फंड की आयोग (पीसी आईएम एच) और केंद्रीय अनुसंधान परिषद (सी सी आर एच) के बीच आज एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए।

होम्योपैथिक दवा कानूनों के लिए वैश्विक रणनीति पर चर्चा के लिए यहां शुरू हुए दो दिवसीय वैश्विक एकीकृत चिकित्सा मंच के मौके पर इस समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए। ” होम्योपैथिक औषधि उत्पादों विनियमन: राष्ट्रीय और वैश्विक ज्ञान पर आयोजित इस दो दिवसीय मंच का उद्घाटन आयूश मंत्री शरीपद यीशु नाइक ने किया|

नाइक ने इस मौके पर कहा कि होम्योपैथिक दवाओं के उत्पादन और उपयोग के क्षेत्र में भारत महत्वपूर्ण भूमिका में है। फिर भी देश-विदेश में इन दवाओं की भरपूर क्षमता का उपयोग अभी तक नहीं हो पाया है। ऐसी दवाओं के महत्व और विश्वसनीयता बनाए रखने के लिए अंतरराष्ट्रीय नियमों अत्यंत आवश्यक हैं।

केंद्रीय होम्योपैथिक अनुसंधान परिषद ऐसी दवाओं पर लगातार नए अध्ययन करता रहता है। एच पी सी यू एस के साथ समझौते से भारत की होम्योपैथिक दवा के लिए अमेरिकी बाजार में संभावनाओं के रास्ते खुलेंगे।

TOPPOPULARRECENT