Saturday , August 19 2017
Home / India /  ‘ॐ’ से मिलती है ऑक्सीजन : हामिद अंसारी की वाइफ सलमा अंसारी 

 ‘ॐ’ से मिलती है ऑक्सीजन : हामिद अंसारी की वाइफ सलमा अंसारी 

अलीगढ़ (यूपी) : इंटरनेशनल योगा डे पर ॐ के उच्चारण के मुखालिफत में उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी की बीवी ने गलत बताया है। सलमा अंसारी ने कहा, ”ॐ के उच्चारण से ऑक्सीजन मिलती है, इसलिए इसका मुखालिफत करना गलत है। मैं भी योग करती हूं। क्योंकि योग से फिटनेस मिलती है। इससे मुझे बीमारी से उबरने में मदद मिली है। अगर योग नहीं किया होता तो मेरी हड्डी टूट गई होती।” हर वो काम करना चाहिए, जिससे फायदा मिले
अलीगढ़ में मदरसा अलनूर स्कूल में सोमवार को बच्चों को सम्मानित करने आईं सलमा अंसारी ने ये बातें कहीं। उन्‍होंने कहा कि अगर आप पढ़े-लिखे हैं तो आपको हर वो काम करना चाहिए, जिससे आपको फायदा मिले।

बताए दें, ॐ के उच्चारण को लेकर मचे बवाल के बाद अर्बन डेवलपमेंट मिनिस्टर वेंकैया नायडू ने सरकार की तरफ से सफाई दी थी।  उन्‍होंने कहा था, ‘योग दिवस पर योग सत्रों के दौरान ऊं का उच्चारण जरूरी नहीं है। यह आपकी मर्जी पर है।’  नायडू ने ट्वीट किया था- योग को विवादास्पद न बनाएं। ॐ का उच्चारण जरूरी नहीं है। योग एक प्राचीन भारतीय कला है जो शरीर और मस्तिष्क, दोनों को लाभ पहुंचाती है।’
आयुष मिनिस्ट्री ने योग के लिए 45 मिनट का एक प्रोटोकॉल प्रोग्राम तय किया है।  इस प्रोटोकॉल में कौन-सा योगासन और प्राणायाम कितनी देर करना है, इसे लेकर इन्फॉर्मेशन दी गई है।  इसमें शुरुआत में ही 2 मिनट ऊं का उच्चारण किया जाएगा। इसके बाद ओम शांति, शांति, शांति के साथ इसे खत्म किया जाएगा। इसके बाद पहले 6 मिनट में वार्मअप प्रोग्राम में गर्दन, कंधे, शरीर के ऊपरी हिस्से और घुटने को हिलाना होगा।  इसके बाद 18 मिनट योगासन। इसमें पहले खड़े होकर ताड़ासन, वृक्षासन, पद-हस्तासन, अर्धचक्रासन और त्रिकोणासन किया जाना है।  फिर बैठकर किए जाने वाले आसनों में भद्रासन, वज्रासन, उष्ट्रासन, शशांकासन, उत्थान मंडुकासन करना होगा। आखिर में सिर झुका कर करने वाले आसन मकरासन, भुजंगासन, शलभासन, धनुर्रासन किया जाएगा।
2 मिनट कपालभाति किया जाएगा, जिसमें हर बार में 20 से 40 स्ट्रोक करना होगा।
 6 मिनट प्राणायाम- नाड़ीशोधन, अनुलोम-विलोम, शीराली, भ्रामरी। इन सभी प्राणायामों के पांच-पांच राउंड करने हैं।  9 मिनट का मेडिटेशन। इसके बाद प्रोगाम की क्लोजिंग के दौरान 2 मिनट के संकल्प के साथ ऊँ के उच्चारण के साथ शांति पाठ किया जाएगा।

TOPPOPULARRECENT