Saturday , October 21 2017
Home / Hyderabad News / क़ियाम तेलंगाना के अमल में अदम पेशरफ़त पर अफ़सोस

क़ियाम तेलंगाना के अमल में अदम पेशरफ़त पर अफ़सोस

सदर नशीन तेलंगाना पोलीटिक्ल जवाइंट एक्शन कमेटी प्रोफेसर कोदंदरम ने 10 अज़ला पर मुश्तमिल तेलंगाना अवाम से अपील की के वो 29 सितंबर को निज़ाम कॉलेज ग्राउंड पर मुनाक़िद होने वाले जल्सा-ए-आम में लाखों की तादाद में शरीक होकर अलाहिदा रियासत

सदर नशीन तेलंगाना पोलीटिक्ल जवाइंट एक्शन कमेटी प्रोफेसर कोदंदरम ने 10 अज़ला पर मुश्तमिल तेलंगाना अवाम से अपील की के वो 29 सितंबर को निज़ाम कॉलेज ग्राउंड पर मुनाक़िद होने वाले जल्सा-ए-आम में लाखों की तादाद में शरीक होकर अलाहिदा रियासत के हक़ में अपने जज़बात का इज़हार करें।

अख़बारी नुमाइंदों से बात चीत करते हुए कोदंदरम ने कहा कि इस जल्सा-ए-आम के ज़रीये तेलंगाना अवाम मर्कज़ को अपनी ताक़त से आगाह करेंगे।

उन्होंने तेलंगाना हामी तमाम जमातों और तनज़ीमों से भी अपील की के वो इस जलसा की कामयाबी में अहम रोल अदा करें। कोदंदरम ने कहा कि सीमा आंध्र से ताल्लुक़ रखने वाले सरकारी मुलाज़मीन को हैदराबाद में जल्सा-ए-आम की इजाज़त के बाद तेलंगाना अवाम के जज़बात काफ़ी शदीद हैं।

इस जलसे का मक़सद मर्कज़ी हुकूमत पर तेलंगाना रियासत के अमल को तेज़ करने के लिए दबा बनाना है। उन्होंने अफ़सोस का इज़हार किया कि कांग्रेस वर्किंग कमेटी और यू पी ए राबिता कमेटी में तेलंगाना के हक़ में फैसले के बावजूद मर्कज़ी हुकूमत ने नई रियासत के क़ियाम में पेशरफ़्त नहीं की है।

उन्होंने कहा कि अंतोनी कमेटी रिपोर्ट और काबीनी नोट की तैयारी में ताख़ीर के सबब तेलंगाना अवाम के ज़हनों में कई शुबहात पैदा होरहे हैं।

पोलीटिक्ल जय ए सी तेलंगाना बिल की मंज़ूरी तक अपनी जद्द-ओ-जहद जारी रखेगी। उन्होंने कहा कि तेलंगाना अवाम और जमातों को रियासत की तशकील तक चौकस रहना चाहीए क्यूंकि मुख़ालिफ़ तेलंगाना अनासिर किसी भी सूरत में रियासत की तक़सीम का अमल रोकने कोशां हैं।

कोदंदरम ने तेलुगु देशम सरबराह चंद्राबाबू नायडू के दौरा दिल्ली को तन्क़ीद का निशाना बनाया। उन्होंने कहा कि मुत्तहदा रियासत के हक़ में मुहिम चलाने के लिए चंद्राबाबू नायडू दिल्ली में मुख़्तलिफ़ मर्कज़ी क़ाइदीन से मुलाक़ात कर रहे हैं।

कोदंदरम ने चंद्राबाबू नायडू से मुतालिबा किया कि वो रियासत की तक़सीम के मसले पर अपने मौक़िफ़ की वज़ाहत करें। उन्होंने कहा कि तेलुगु देशम पार्टी ने मर्कज़ी हुकूमत को तेलंगाना रियासत के हक़ में मकतूब हवाले किया था लेकिन अब मर्कज़ की तरफ से तेलंगाना के हक़ में फैसले के बाद नायडू बौखलाहट का शिकार होचुके हैं और वो इस मसले पर मुज़ाकरात का मुतालिबा कर रहे हैं।

कोदंदरम ने मुतालिबा किया कि रियासत की तक़सीम से पैदा होने वाली सूरत-ए-हाल और सीमा आंध्र अवाम के अनुदेशों का जायज़ा लेने के बाद ही मर्कज़ ने रियासत की तक़सीम का फैसला किया। चंद्राबाबू नायडू वसीअ तर मुशावरत के नाम पर रियासत की तक़सीम के अमल में रुकावट पैदा करने कोशां हैं।

उन्होंने कहा कि साबिक़ में भी चंद्राबाबू नायडू ने इसी तरह अपने मौक़िफ़ से इन्हिराफ़ करलिया था। चंद्राबाबू नायडू को मुत्तहदा रियासत का हामी क़रार देते हुए कोदंदरम ने कहा कि यही वजह हैके नायडू ने सीमा आंध्र इलाक़ों में बस यात्रा मुनज़्ज़म की और एहितजाजियों से हम आहंगी का इज़हार किया। सदर नशीन जय ए सी ने मर्कज़ी हुकूमत को मश्वरह दिया कि वो सीमा आंध्र इलाक़ों के अवाम के अनुदेशों को दूर करने के लिए सीमा आंध्र क़ाइदीन से बात चीत करें।

उन्होंने सी डब्ल्यू सी क़रारदाद के मुताबिक़ तेलंगाना रियासत की तशकील का अमल तेज़ करने की मांग की। कोदंदरम ने कहा कि सीमा आंध्र में जारी एहतेजाज से तेलंगाना रियासत की तशकील में कोई रुकावट पैदा नहीं होगी।

TOPPOPULARRECENT