Tuesday , October 24 2017
Home / Mazhabi News / क़ुरान सिखाने वाले अल्लाह के महबूब‍ ओर‌-पसंदीदा बंदे

क़ुरान सिखाने वाले अल्लाह के महबूब‍ ओर‌-पसंदीदा बंदे

* जलसा क़िरात कलाम पाक से मौलाना शाह मुहम्मद फ़सीह निज़ामी‍ ओर दुसरे उलेमा का बयान‌

* जलसा क़िरात कलाम पाक से मौलाना शाह मुहम्मद फ़सीह निज़ामी‍ ओर दुसरे उलेमा का बयान‌
हैदराबाद । सालाना मर्कज़ी जलसा हुस्न क़िरात कलाम पाक मद्रेसा बाब उल-उलूम वटे पली‍ ओर‌-स्टार आर्ट एंड कल्चरल एसोसी एष‌ण हैदराबाद के एहतिमाम में 20 मई को इशा कि नमाज़ के बाद‌ जामा मस्जिद हकीम मीर वज़ीर अली फ़तह दरवाज़ा में हाफ़िज़ मुहम्मद अबदुल्लाह कुरैशी अज‌हरी ख़तीब मक्का मस्जिद कि सदारत में मुनाक़िद हुआ जिस में मेहमानान ख़ुसूसी कि हैसियत से मुफ़्ती मुहम्मद अज़ीम उद्दीन , क़ारी अशरा मुहम्मद अली हाश्मी , ताहिर जमील आबिद शाह वली , मुहतरम सय्यद अहमद , मौलाना शाह मुहम्मद फ़सीह उद्दीन निज़ामी , मौलाना इर्फ़ान उल्लाह शाह नूरी ने शिरकत की ।

इस जलसा क़िरात में हैदराबाद के मशहूर‍ ओर‌-मारूफ़ कारी हजरात‌ ने कुरान पाक पढा। जिन में क़ारी मुहम्मद ग़ुलाम अहमद नियाज़ी , क़ारी मुहम्मद मसीह उद्दीन ग़ौरी , क़ारी मुहम्मद कलीम उद्दीन , क़ारी अबदुलअली सिद्दीकी , क़ारी बाबा मुही उद्दीन , क़ारी मुहम्मद मक़सूद उर्रेहमान‌ , क़ारी मुहम्मद अकबर , क़ारी मुहम्मद अबदुल्लाह कलीमी , क़ारी मुहम्मद मुनीर अहमद , क़ारी मुहम्मद अबदुलक़य्यूम शाकिर , क़ारी मुहम्मद नसीर उद्दीन मंशावी , क़ारी मुहम्मद अबदुल मन्नान , क़ारी मुहम्मद शोएब हुसैनी और दाई जलसा हाफ़िज़‍ ओर‌-क़ारी मुहम्मद सलाह उद्दीन जावेद और नाज़िम जलसा क़ारी मुहम्मद वीलाय‌त कादरी‍ ओर‌-मौलवी क़ारी मुहम्मद अबदुर्रशीद ख़ां ने अपने मख़सूस अंदाज़ में तिलावत कलाम पाक से महफ़िल में समा बांध दिया और सामीन पर रक्त तारी हुई ।

कारी साहिबान को सनद मोमेन्टों और हदया पेश किया गया और मिसबाह उलकुर्रा की गुलपोशी की गई । इस जलसे को मौलाना शाह मुहम्मद फ़सीह उद्दीन निज़ामी ने मुख़ातब करते हुए कहा कि क़ुरान अल्लाह ताला की सब से बड़ी नेमत है । अल्लाह ताला के पास क़ुरान के सीखने और सिखाने वाले बंदे सब से महबूब तरीन और पसंदीदा हैं ।

ये जलसा पिछ्ले 35 सालों से लगातार‌ हाफ़िज़‍ ओर‌-क़ारी मुहम्मद सलाह उद्दीन जावेद ग्रांड मास्टर‍ ओर‍ मोहतमिम मद्रेसा बाब उल-उलूम अपने वालिद माजिद हज़रत डाक्टर क़ारी मुहम्मद रज़ी उद्दीन शाहिद की याद में मुनाक़िद करते आ रहे हैं । जलसे कि शुरुआत‌ हज़रत मिसबाह उलकुर्रा की तिलावत क़ुरान-ए-पाक‍ ओर‌-दुआ‍ ओर‌-सलाम पर इंतिहाई कामयाबी से इख़तताम पज़ीर हुआ । ।

TOPPOPULARRECENT