Tuesday , September 19 2017
Home / Khaas Khabar / क़ैदीयों से मुलाक़ात के लिए आधार के लज़ूम का मन्सूबा

क़ैदीयों से मुलाक़ात के लिए आधार के लज़ूम का मन्सूबा

हैदराबाद 12 अगस्त तेलंगाना की जेलों में क़ैदीयों से मुलाक़ात के लिए पहूंचने वाले तमाम अफ़राद के लिए मुस्तक़बिल क़रीब में आधार कार्ड की पेशकशी लाज़िमी हो जाएगीगी।

जेलों में मुजरिमीन की आमद-ओ-रफ़त का पता चलाने के लिए दुशवार गुज़ार मसले का हल तेलंगाना के महिकमा महाबस ने आधार कार्ड की सूरत में तलाश कर लिया है।

मुलाक़ातियों की सही शिनाख़्त की हिन्दुस्तानी अथॉरीटी बराए मुनफ़रद शिनाख़्त की लिए गए उंगलीयों के निशान और दुसरे बायो मेट्रिक तरीक़ों से तौसीक़ की जाएगी। महाबस तेलंगाना के इंस्पेक्टर जनरल ए नरसिम्हा ने कहा कि क़ैदीयों से मुलाक़ात के लिए जेल पहूंचने वाले मुलाक़ातियों की शिनाख़्त को हम यक़ीनी बनाना चाहते हैं।

दहश्तगर्द और ग़ैर समाजी अनासिर भी अपनी मुजरिमाना सरगर्मीयों के लिए जेल पहूंच कर क़ैदीयों से मुलाक़ात की कोशिश कर सकते हैं। इस मक़सद के लिए वो जाली शिनाख़्त पेश कर सकते हैं लेकिन जेलों में आधार कार्ड के ज़रीये सही शिनाख़्त की यक़ीनी तौसीक़ भी हो सकती है।

जिसमें जालसाज़ी या धोका दही की कोई गुंजाइश बाक़ी नहीं रहती। क़ैदीयों से मुलाक़ात के लिए पहूंचने वालों की दुसरे तफ़सीलात भी हासिल हो सकती हैं। हत्ता के बैरूने रियासत से पहूंचने वालों के बारे में पता चलाया जा सकता हैके आया वो मुजरिमाना पस-ए-मंज़र रखते हैं। ए नरसिम्हा ने तवक़्क़ो ज़ाहिर की के आइन्दा दो माह के दौरान ये तरीका-ए-कार नाफ़िज़ किया जा सकता है।

जिसके तहत सबसे पहले सेंट्रल जेलस बादअज़ां डिस्ट्रिक्ट जेलस में ये तरीका-ए-कार राइज किया जाएगा।

TOPPOPULARRECENT