Thursday , October 19 2017
Home / Islami Duniya / क़ज़ाफ़ी के देरीना हरीफ़ अबदुर्रहीम अलकीब नए वज़ीर-ए-आज़म मुंतख़ब

क़ज़ाफ़ी के देरीना हरीफ़ अबदुर्रहीम अलकीब नए वज़ीर-ए-आज़म मुंतख़ब

तरह बुल्स, 02 नवंबर (ए एफ़ पी) लीबिया के नए वज़ीर-ए-आज़म ने अह्द किया कि इन की उबूरी हुकूमत इंसानी हुक़ूक़ के एहतिराम को अपनी तर्जीह बनाएगी, जबकि अक़वाम-ए-मुत्तहिदा ने मुअम्मर क़ज़ाफ़ी की ज़बरदस्त ज़ख़ीराअंदोजी से लौटे गए असलाह के फीलाव् के ख़िल

तरह बुल्स, 02 नवंबर (ए एफ़ पी) लीबिया के नए वज़ीर-ए-आज़म ने अह्द किया कि इन की उबूरी हुकूमत इंसानी हुक़ूक़ के एहतिराम को अपनी तर्जीह बनाएगी, जबकि अक़वाम-ए-मुत्तहिदा ने मुअम्मर क़ज़ाफ़ी की ज़बरदस्त ज़ख़ीराअंदोजी से लौटे गए असलाह के फीलाव् के ख़िलाफ़ इंतिबाह दिया।

अबदुर्रहीम अलकीब जो माहिर-ए-तालीम और दौलतमंद ताजिर नीज़ तरह बुल्स के मुतवत्तिन हैं, उन्हें कल रात क़ौमी उबूरी कौंसल (एन टी सी) के अरकान की जानिब से मुनाक़िदा आम राय दही में उबूरी वज़ीर-ए-आज़म मुंतख़ब किया गया। कैब ने राय दही में चार दीगर उम्मीदवारों को शिकस्त देने के फ़ौरी बाद न्यूज़ कान्फ़्रैंस को बताया कि वो हक़ूक़-ए-इंसानी को एक तर्जीह बनायॆगी।

हम ज़मानत देते हैं कि हम ऐसी क़ौम की तामीर करने जा रहे हैं जो इंसानी हुक़ूक़ का एहतिराम करती है और इंसानी हुक़ूक़ का इस्तिहसाल बर्दाश्त नहीं करती है।

लेकिन हमें वक़्त चाहियॆ कैब ने क़ज़ाफ़ी के हरीफ़ की हैसियत से कई दहिय बैरून-ए-मुल्क गुज़ारे और फिर मुवाफ़िक़ जमहूरीयत इन्क़िलाब में शामिल हो गए जिस ने कर्नल को माज़ूल करदिया। वो महमूद जिब्रईल के जांनशीन बने हैं, जो इन टी सी जनगजोॶं की जानिब से क़ज़ाफ़ी के आबाई टाउन सरत पर चढ़ाई करते हुए माज़ूल हुकमरान को पकड़ कर हलाक करदिए जाने के तीन रोज़ बाद मुस्ताफ़ी हो गए ।

एन टी सी चेयरमैन मुस्तफा अबदुल जलील ने दो शंबा की राय दही के बाद कहा कि ये राय दही साबित करती है कि लीबीयाई अवाम अपने मुस्तक़बिल को संवारने की क़ाबिलीयत रखते हैं। एक सयासी ख़ाका के तहत कैब को अब 23 नवंबर तक उबूरी हुकूमत तशकील देना है, जो ऐन् टी सी के मुतवाज़ी काम करते हुए आठ माह तक लीबिया के उमूर चलाएगी, जिस के बाद दस्तूर साज़ असैंबली केलिए इंतिख़ाबात मुनाक़िद किए जाएंगी।

तब उबूरी हुकूमत और ऐन् टी सी मौक़ूफ़ हो जाएंगी, और जनरल नैशनल कांग्रेस केलिए राह फ़राहम होगी जो पारलीमानी और सदारती इंतिख़ाबात के इनइक़ाद तक मुल्क़् को चलाएगी। नए वज़ीर-ए-आज़म का तक़र्रुर ऐसे वक़्त हुआ है जबकि अक़वाम-ए-मुत्तहिदा सलामती कौंसल ने कल लीबिया के उबूरी हुक्काम और पड़ोसी ममालिक पर ज़ोर दिया था कि क़ज़ाफ़ी की ज़ख़ीराअंदोजी से हथियारों के फैलाव् को ख़तम् किया जायॆ।

TOPPOPULARRECENT