Monday , October 23 2017
Home / Hyderabad News / ख़ानगी इंजीनियरिंग कॉलेजस का हुकूमत को ब्लाक मेल

ख़ानगी इंजीनियरिंग कॉलेजस का हुकूमत को ब्लाक मेल

हैदराबाद 09 जनवरी: रियास्ती हुकूमत ने ख़ानगी इंजीनियरिंग कॉलेज इंतेज़ामियों के एसोसीएशन क़ाइदीन के बयान पर अपने शदीद रद्द-ए-अमल का इज़हार किया और इस बयान को एसोसीएशन क़ाइदीन की तरफ से रियास्ती हुकूमत को ब्लाक मेल करने की कोशिश से ताब

हैदराबाद 09 जनवरी: रियास्ती हुकूमत ने ख़ानगी इंजीनियरिंग कॉलेज इंतेज़ामियों के एसोसीएशन क़ाइदीन के बयान पर अपने शदीद रद्द-ए-अमल का इज़हार किया और इस बयान को एसोसीएशन क़ाइदीन की तरफ से रियास्ती हुकूमत को ब्लाक मेल करने की कोशिश से ताबीर किया और बताया कि रियास्ती हुकूमत ने अब तक ही जारीया माह के इखतेताम तक पराईओट इंजीनियरिंग कॉलिजस को तलबा ओ तालिबात की फ़ीस रीएमबरसमनट रक़ूमात के इव्ज़ एक हज़ार ता पंद्रह सौ करोड़ रुपये जारी करने के अहकामात जारी करचुकी है और रक़ूमात की इजराई के लिए तेज़ तर इक़दामात किए जा रहे हैं।

आज यहां सकरीटरीट में अख़बारी नुमाइंदों से बातचीत करते हुए रियास्ती वज़ीर समाजी भलाई पी सत्य नारावना ने इस बात का इन्किशाफ़ किया और बताया कि इस सिलसिले में उन्हों ने आज ही चीफ़ मिनिस्टर एन किरण कुमार रेड्डी से मुलाक़ात करके तफ़सीली हालात से वाक़िफ़ करवाया और महिकमा फाइनेंस के आला ओहदेदारों को दुबारा फिर एक बार हिदायत दिलवाई गईं। और कहा कि तलबा की फ़ीस रीएमबरसमनट रक़ूमात अब तक बहुत ही अच्छे अंदाज़ में ही जारी की जा रही हैं और किसी किस्म के बक़ायाजात नहीं पाए जाते हैं।

ताहम जारीया तालीमी साल में दाख़िले हासिल किए हुए तलबा ओ तालिबात की फ़ीस रीएमबरसमनट रक़ूमात में अभी जारी नहीं की गई हैं लेकिन हक़ीक़त तो ये है कि फ़ीस रीएमबरसमनट रक़ूमात की इजराई के लिए रियास्ती हुकूमत ज़िम्मेदार नहीं है बल्के ख़ुद ख़ानगी इंजीनियरिंग कॉलिजस का इंतेज़ामीया भी बराबर का ज़िम्मेदार है।

क्योंके ख़ानगी इंजीनियरिंग-ओ-दीगर कॉलिजों के इंतेज़ामीया की तरफ से तलबा की मुकम्मल तफ़सीलात और मसारिफ़ से मुताल्लिक़ मुकम्मल मालूमात हुकूमत को रवाना नहीं किए जिस की वजह से रक़ूमात की इजराई में काफ़ी मुश्किलात पेश आरही हैं।

अलावा अज़ीं ख़ानगी इंजीनियरिंग कॉलिजस की तन्क़ीह अभी भी जारी है और उन तनक़ीहात के दौरान इस बात का पता चला है कि तक़रीबन 50 फ़ीसद इंजीनियरिंग कॉलिजों के इंतेज़ामियों ने फ़ीस रीएमबरसमनट की तफ़सीलात से हुकूमत को वाक़िफ़ नहीं करवाया है।

वज़ीर समाजी भलाई ने परज़ोर अलफ़ाज़ में कहा कि ख़ानगी इंजीनियरिंग कॉलिजों को फ़ीस रीएमरबसमनट रक़ूमात की इजराई में मज़ीद किसी किस्म की ताख़ीर नहीं की जाएगी।

उन्हों ने कहा कि ख़ानगी इंजीनियरिंग कॉलिजस इंतेज़ामियों के एसोसीएशन क़ाइदीन की ब्लाक मेल करने में कोशिशों को रियास्ती हुकूमत हरगिज़ बर्दाश्त नहीं करेगी और कहा कि मोहलत देते हुए 20 जनवरी तक फ़ीस रक़ूमात अदा ना करने की सूरत में कॉलिजस बंद करदेने की बातें करना कोई मुनासिब बात नहीं है और तलबा के मुस्तक़बिल के साथ खिलवाड़ करना कोई ठीक नहीं है।

वज़ीर मौसूफ़ ने कहा कि शराइत-ओ-क़वानीन की रोशनी में कॉलिजस की तनक़ीहयां मुकम्मल करके तमाम सदाक़त नामों की जांच करने के बाद ही अहल तलबा-ए-को टीयूशन फ़ीस मुनासिब अंदाज़ में अदा की जाएंगी।

उन्हों ने कहा कि हुकूमत 26 लाख ग़रीब तलबा को फ़ीस रक़ूमात और वज़ाइफ़ (स्कालरशिपस) अदा कररही है।

TOPPOPULARRECENT