Friday , October 20 2017
Home / Khaas Khabar / ख़ून का अतीया ग़ैर इस्लामी : देवबंद

ख़ून का अतीया ग़ैर इस्लामी : देवबंद

मुज़फ़्फ़रनगर, 06 दिसंबर (एजेंसीज़) दार-उल-उलूम देवबंद के मुताबिक ख़ून और आज़ाए जिस्मानी का अतीया देना इस्लामी इक़दार के ख़िलाफ़ है, लेकिन इत्तिफ़ाक़ से ये भी कहा कि किसी क़रीबी और चहेते शख़्स की ज़िंदगी बचाने के लिए ख़ून का अतीया देना क़ाबिल‍

मुज़फ़्फ़रनगर, 06 दिसंबर (एजेंसीज़) दार-उल-उलूम देवबंद के मुताबिक ख़ून और आज़ाए जिस्मानी का अतीया देना इस्लामी इक़दार के ख़िलाफ़ है, लेकिन इत्तिफ़ाक़ से ये भी कहा कि किसी क़रीबी और चहेते शख़्स की ज़िंदगी बचाने के लिए ख़ून का अतीया देना क़ाबिल‍ ए‍ कुबूल होगा।

एक सवाल के जवाब में फ़तवा देते हुए दीनी दरसगाह ने कहा कि ख़ून या आज़ाए जिस्मानी का अतीया देने की इस्लाम में इजाज़त नहीं है क्योंकि बनी नौ इंसान अपने अजसाम के मालिक नहीं हैं।

ये फ़तवा दारालाफ़ता देवबंद ने अपनी वेब साईट जिसका उनवान हराम और हलाल के मसाइल है, शाय की है। सवाल करने वाले ने दरयाफ्त किया था कि ख़ून का अतीया देने के कैंप मुनाक़िद करना हराम है या हलाल। ताहम देवबंद ने ये भी कहा कि ज़िंदगी बचाने के लिए ख़ून का अतीया दिया जा सकता है।

TOPPOPULARRECENT