Saturday , October 21 2017
Home / World / ज़्यादा कोयला, ज़्यादा कार्बन डाई ऑक्साईड

ज़्यादा कोयला, ज़्यादा कार्बन डाई ऑक्साईड

ज़्यादा कोयला, ज़्यादा कार्बन डाई ऑक्साईड मादिनी( कान) तेल का कारोबार करने वाले इदारे बी पी ने तवानाई से मुताल्लिक़ अपनी ताज़ा रिपोर्ट में सन् 2011में दुनिया भर में तवानाई की पैदावार और खपत की तफ़सीलात पेश की हैं।

ज़्यादा कोयला, ज़्यादा कार्बन डाई ऑक्साईड मादिनी( कान) तेल का कारोबार करने वाले इदारे बी पी ने तवानाई से मुताल्लिक़ अपनी ताज़ा रिपोर्ट में सन् 2011में दुनिया भर में तवानाई की पैदावार और खपत की तफ़सीलात पेश की हैं।

इस रिपोर्ट में अख़ज़ किया गया ये नतीजा ज़्यादा बाइस हैरत नहीं है के तवानाई की आलमगीर(पलाहुवा) तलब मज़ीद(ज्यादा) बढ़ती जा रही है। इस रिपोर्ट से अलबत्ता ये भी पता चलता है के जहां मादिनी ( कान) तेल की तलब गुज़श्ता कई अशरों में अपनी निचली तरीन सतह पर चली गई है, वहां कोइले का इस्तिमाल बहुत ज़्यादा बढ़ गया है।

साल दो हज़ार ग्यारह शदीद मौसमों, क़ुदरती आफ़ात (मुसीबत)और सयासी इन्क़िलाबात का साल था। इस का असर दुनिया भर में तवानाई की पैदावार और खपत पर भी हुवा , जैसा के बताते हैं, मादिनी( कान) तेल और गैस के कारोबार से वाबस्ता(तकुख) इदारे बी पी से वाबस्ता (तकुख) सरकरा माहिर इक़तिसादीयात क्रिस्टोफ रोहिल्ल:अरब दुनिया के कुछ हिस्सों और बिलख़सूस लीबिया में सयासी बदअमनी और तशद्दुद(लदेइ) का नतीजा तेल और गैस की पैदावार में काफ़ी बड़े पैमाने पर कमी की सूरत में बरामद हुवा ।

एक अंदाज़े के मुताबिक़ ये कमी 72 मुलैय्यन टन तेल के बराबर थी और ये मिक़दार योरपी यूनीयन में तेल की खपत के ग्यारह फ़ीसद से भी ज़्यादा बनती है। जापान में फ़ो को शीमा के ऐटमी री एक्टरों को पेश आने वाले तबाहकुन हालात के नतीजे में दुनिया भर में तवानाई की पैदावार में 115 मुलैय्यन टन तेल के मुसावी कमी हुई।

इस सूरत-ए-हाल और तेल की क़ीमतों में भी रिकार्ड इज़ाफे़ के बावजूद दुनिया भर में तवानाई की खपत में 5‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍-2 फ़ीसद इज़ाफ़ा रिकार्ड किया गया। इस तलब को पूरा करने के लिए जहां ओपीक मुल्कों ने तेल की पैदावार बढ़ा दी वहां यूरोप में अमरीका से सस्ती गैस और कोयला दरआमद किया गया।

इस से तवानाई की मांग तो पूरी हो गई लेकिन तेल और गैस की कमी को अमरीका और कोलंबिया से दरआमद शूदा सस्ते मादिनी ज़राए की दरआमद से पूरा करने के नताइज ज़मीनी माहौल और मौसमों के लिए तबाहकुन साबित हुए 2011 में दुनिया भर में कार्बन डाई ऑक्साईड के इख़राज की मिक़दार में इकट्ठे तीन फ़ीसद का इज़ाफ़ा देखा गया। माहौल दोस्त तंज़ीम डब्ल्यूडब्ल्यू एफ़ से वाबस्ता रेगीने गुंटुर कहती हैं:ये तशवीशनाक ही नहीं तबाहकुन है।

TOPPOPULARRECENT