Tuesday , October 17 2017
Home / India / फ़ौज को हमला आवर हेलीकाप्टर देने का फ़ैसला

फ़ौज को हमला आवर हेलीकाप्टर देने का फ़ैसला

इंडियन एयरफ़ोर्स की सख़्त मुख़ालिफ़त की परवाह किए बगै़र हुकूमत ने हमलों के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले हेलीकाप्टर फ़ौज के सपुर्द करने का फ़ैसला किया है। फ़ौज के सरबराह जनरल बिक्रम सिंह ने पी टी आई से कहाकि हमें वज़ारत-ए-दिफ़ा से एक मकतूब

इंडियन एयरफ़ोर्स की सख़्त मुख़ालिफ़त की परवाह किए बगै़र हुकूमत ने हमलों के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले हेलीकाप्टर फ़ौज के सपुर्द करने का फ़ैसला किया है। फ़ौज के सरबराह जनरल बिक्रम सिंह ने पी टी आई से कहाकि हमें वज़ारत-ए-दिफ़ा से एक मकतूब मौसूल हुआ है।

हुकूमत ने हमें हमलों केलिए इस्तेमाल किए जाने वाले हेलीकाप्टर दिए हैं। फ़ौज एक तवील अर्सा से हमले केलिए इस्तेमाल होने वाले हैली कैपटरस और औसत सुलह हैती हैली कैपटरस फ़राहम करने का मुतालिबा(मांग‌) कररही थी, जिस का इस्तिदलाल था कि इस की मुख़्तलिफ़ कार्यवाईयों में इन हैली कैपटरस की ज़रूरत है।

चुनांचे उस को ये हेलीकाप्टर फ़राहम किया जाना चाहीए। लेकिन फ़ौज के इस मुतालिबा की इंडियन एयरफ़ोर्स की तरफ़ से सख़्त मुख़ालिफ़त की जा रही थी। फ़ौज की इन दोनों ख़िदमात के दरमयान इस मसले पर अगरचे एक तवील अर्सा से रसा कुशी जारी थी लेकिन इस वक़्त उन इख़तिलाफ़ात का इन्किशाफ़ हुआ जब इंडियन एयरफ़ोर्स के सरबराह अर चीफ़ मार्शल एन ए के ब्राउन ने कहा था कि मुल़्क इस बात का मुतहम्मिल नहीं होसकता कि छोटे एयरफ़ोर्स अपने तौर पर काम करते रहें।

वज़ीर-ए-दिफ़ा शरद पवार ने इस मसले पर फ़ौज की दो ख़िदमात के दरमयान इख़तिलाफ़ात की तरदीद की और कहाकि ये एक (फ़ौज का अंदरूनी) फ़ैमिली मसला है और हुकूमत इस मसले को हल करने के क़तई मरहला में पहूंच चुकी है। फ़ौज का ये इस्तिदलाल था कि चीन से महसला सरहदों पर कार्यवाईयों केलिए इनफ़रास्ट्रक्चर में इज़ाफ़ा की ज़रूरत है जिस में हमला करने के काबिल हेलीकॉप्टरों की शमूलीयत भी नागुज़ीर होगी क्योंकि फ़ौज ने ऐसे असासों की शमूलीयत से नक़ल-ओ-हरकत केलिए दरकार वक़्त में काबुल लिहाज़ कमी होगी।

ज़मीनी अफ़्वाज मुसलसल सरहदी इलाक़ों में अपनी कार्यवाईयों केलिए हमला आवर हेलीकाप्टर की फ़राहमी का मुतालिबा(मा‍ग‌) कररहे थे।

TOPPOPULARRECENT