Wednesday , September 20 2017
Home / Bihar News / मां ने मोबाइल छीना, तो बेटे ने लगा ली फांसी

मां ने मोबाइल छीना, तो बेटे ने लगा ली फांसी

भागलपुर : मोजाहिदपुर थाना इलाके के लालूचक बसंत विहार कॉलोनी में रहनेवाले आर्यभट्ट स्कूल के इंटर के तालिबे इल्म अभिषेक राज ने फांसी लगा कर जान दे दी. अभिषेक राज पीर की रात पंखे में बिजली का तार बांध कर फंदे से लटक गया. मंगल की शाम उसके फांसी लगा लेने की खबर मिलते ही पुलिस पहुंची और अभिषेक के अहले खाना के सामने उसे फंदे से नीचे उतारा गया. अभिषेक के कमरे से पुलिस को सुसाइड नोट नहीं मिला है.

अभिषेक राज के मौसी ने बताया कि पीर को वह एकदम ठीक था और खुश भी था. पीर को ही अभिषेक को उसकी मां ने पढ़ाई को लेकर डांटा था. वह मोबाइल पर ज्यादा वक़्त दे रहा था, इसलिए उसका मोबाइल भी मां ने छीन लिया था. अभिषेक के अहले खाना ने बताया कि उसने दिल्ली पब्लिक स्कूल से पढ़ाई करने के बाद आर्यभट्ट में एडमिशन लिया था और इस बार वह इंटर का एग्जाम देनेवाला था.

अभिषेक की मौसी ने बताया कि पीर की शाम में अभिषेक ने मोटर चलाया था और वह कहीं से भी परेशान नहीं दिख रहा था. पीर को डांटने और मोबाइल छीनने के बाद अभिषेक की मां कैलाशपुरी में रहनेवाली अपनी बहन के यहां चली गयी थी. मंगल को उसके लौटने के बाद भी जब अभिषेक के कमरे का दरवाजा बंद मिला, तो वेंटिलेटर से झांक कर देखा कि अभिषेक फंदे से लटका है. उसने अंदर से दरवाजा बंद कर रखा था.

अभिषेक ने अपने कमरे का दरवाजा अंदर से बंद कर फांसी लगायी थी. दरवाजा इतना मजबूत था कि उसे बाहर से तोड़ पाना सभी के लिए मुश्किल साबित हो रहा था. मोजाहिदपुर इंस्पेक्टर मनोरंजन भारती वहां पहुंचे और पुलिस ने अभिषेक के अहले खाना को कमरे के पीछेवाली खिड़की को तोड़ने में मदद की. अभिषेक के मौसा कमरे में घुसे और उन्होंने अंदर से दरवाजे में लगे ताला को तोड़ा.

आस-पास के लोगों के दरमियान बहस का मुद्दा था कि बेटे को डांटने के बाद मां अपनी बहन के यहां कैसे चली गयी. लोगों के दरमियान यह भी बहस का मुद्दा था कि अभिषेक तीन दिन से अपने कमरे में बंद था. हालांकि सच्चाई तहकीकात के बाद ही सामने आ पायेगी.

अभिषेक राज के वालिद अशोक चौरसिया राजस्थान में किसी प्राइवेट कंपनी में इंजीनियर हैं. अभिषेक भाई में अकेले था. उसकी वाहिद बड़ी बहन दिल्ली में रह कर पढ़ाई कर रही है. अभिषेक के फांसी लगाने की खबर मिलते ही उसके आबाई गांव गोगरी जमालपुर के मलिया से उसके दादा-दादी यहां पहुंचे. सभी कह रहे थे कि अभिषेक पुर अमन किरदार का लड़का था. उसके कमरे और पूरे घर के रख-रखाव को देख कर लगता है कि वह अमीर घर से ताल्लुक रखता था.

 

 

TOPPOPULARRECENT