Tuesday , August 22 2017
Home / India / CMIE के सर्वे में खुलासा, नोटबंदी की वजह से गई 15 लाख लोगों की नौकरियां

CMIE के सर्वे में खुलासा, नोटबंदी की वजह से गई 15 लाख लोगों की नौकरियां

नरेंद्र मोदी ने लोकसभा चुनाव के वादा किया था सत्ता में आने पर वो हर साल 2 करोड़ युवाओं को रोज़गार देगी । अब मोदी का यही दावा उनके गले की हड्डी बन गया है । रोज़गार देना तो दूर सरकार के फ़ैसलों के वजह से लाखों लोगों की नौकरियां चली गईं । ये खुलासा एक सर्वे में हुआ है ।
इस बीच एक सर्वे में खुलासा हुआ है कि पिछले वर्ष 8 नवंबर 2016 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा नोटबंदी की घोषणा के बाद से भारत में करीब 15 लाख लोगों को अपनी नौकरियां गंवानी पड़ी हैं।

इस सर्वे के मुताबिक, अगर कमाने वाले एक शख्स के ऊपर घर के चार लोग आश्रित हैं तो इस हिसाब से नोटबंदी से करीब 60 लाख से ज्यादा लोगों के ऊपर रोज़ीरोटी का संकट आन पड़ा है और उन्हें परेशानियों का सामना करना पड़ा।

जनसत्ता ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया है कि सेन्टर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकॉनोमी (CMIE) ने सर्वे में त्रैमासिक वार नौकरियों का आंकड़ा पेश किया है। सीएमआईई के कंज्यूमर पिरामिड हाउसहोल्ड सर्वे से पता चलता है कि नोटबंदी के बाद जनवरी से अप्रैल 2017 के बीच देश में कुल नौकरियों की संख्या घटकर 405 मिलियन रह गई थी जो कि सितंबर से दिसंबर 2016 के बीच 406.5 मिलियन थी। यानी नोटबंदी के बाद नौकरियों की संख्या में करीब 1.5 मिलियन यानी 15 लाख की कमी आई।

रिपोर्ट के मुताबिक, देशभर में हुए हाउसहोल्ड सर्वे में जनवरी से अप्रैल 2016 के बीच युवाओं के रोजगार और बेरोजगारी से जुड़े आंकड़े जुटाए गए थे । इस सर्वे में कुल 1 लाख 61 हजार, 167 घरों के कुल 5 लाख 19 हजार, 285 युवकों का सर्वे किया गया था। सर्वे में कहा गया है कि तब 401 मिलियन यानी 40.1 करोड़ लोगों के पास रोजगार था।

यह आंकड़ा मई-अगस्त 2016 के बीच बढ़कर 403 मिलियन यानी 40.3 करोड़ और सितंबर-दिसंबर 2016 के बीच 406.5 मिलियन यानी 40.65 करोड़ हो गया। इसके बाद जनवरी 2017 से अप्रैल 2017 के बीच रोजगार के आंकड़े घटकर 405 मिलियन यानी 40.5 करोड़ रह गए। जिससे साफ़ है कि करीब 15 लाख लोगों को अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़ा है ।

रिपोर्ट के मुताबिक आठ नवंबर 2016 को लागू हुई नोटबंदी का व्यापक प्रभाव इन महीनों में पड़ा है। हालांकि, रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि सितंबर से दिसंबर 2016 में खत्म हुई तिमाही में भी नोटबंदी के आंशिक प्रभाव पड़े हैं।

सर्वे रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि जनवरी 2016 से अक्टूबर 2016 तक श्रमिक भागीदारी 46.9 फीसदी थी जो फरवरी 2017 तक घटकर 44.5 फीसदी, मार्च तक 44 फीसदी और अप्रैल 2017 तक 43.5 फीसदी रह गई

जब लोगों से यह सवाल पूछा गया था क्या भारत में बेरोजगारी दर कम हुई है तो 63 प्रतिशत लोगों ने कहा था कि बेरोजगारी दर में कोई कमी नहीं आई है, जबकि 21 प्रतिशत लोगों ने कहा कि बेरोजगारी दर में कमी आई है। इस सर्वे में 40 हजार से भी ज्यादा लोगों ने हिस्सा लिया और 20 हजार से भी अधिक वोट डाले गए थे।

TOPPOPULARRECENT