Friday , August 18 2017
Home / Delhi News / 16 दिसम्बर मक़तूला के वालिद : हम बेटी के लिए इंसाफ़ हुसूल करने में नाकाम

16 दिसम्बर मक़तूला के वालिद : हम बेटी के लिए इंसाफ़ हुसूल करने में नाकाम

no

“हम नाकाम रहे हैं। अब इंसाफ के लिए कोई उम्मीद नहीं है, “16 दिसंबर 2012 गैंगरेप वाक़ेआ जिसने पूरे मुल्क को हिलाकर रख दिया था, की तीसरी सालगिरह के मौक़े पर मज़लूमा के परेशान वालिदैन ने मुलज़िम किशोर को रिहा नहीं करने की अपील की है ।

मक़तूल के 50 साला वालिद ने घुटी हुई आवाज़ में कहा “कि हर गुज़रते दिन के साथ उसकी यादें और शिद्दत से आती हैं | हम उसकी यादों का सामना करने के क़ाबिल नहीं हैं, क्यूँकि हम उसके लिए इन्साफ के हुसूल में नाकाम रहे हैं, और अब इन्साफ की कोई उम्मीद नहीं है” |

वालिद के मुताबिक़, इस वाक़ेआ को 3 साल हो गये हैं लेकिन अभी तक चारों मुलज़िमों को फांसी नहीं हुई है|6 मुलज़िमों में सबसे “ज़्यादा ज़ालिम रवय्या” अपनाने वाले किशोर मुजरिम की आब्जरवेशन होम में क़ैद की मुद्दत 20 दिसम्बर को पूरी हो रही है | लड़की के वालिद का कहना है कि, नौजवान को, जो वाक़ेअ के वक़्त किशोर था, रिहा नहीं किया जाना चाहिए क्यूंकि वो मुआशरे के लिए एक ख़तरा है उन्होंने विज़ारत दाख़िला और नेशनल ह्यूमन राइट कमीशन से इस बात का मुतालबा करते हुए एक अर्ज़ी दाख़िल की है |

वालिद ने कहा कि “हमारे लिए तो वह हमारी बेटी का क़ातिल है फिर भी इतने बड़े जुर्म के बावुजूद उसको रिहा किया जा रहा है | हम मुतालबा करते हैं कि उसको रिहा नहीं किया जाना चाहिए” |

TOPPOPULARRECENT