Wednesday , September 20 2017
Home / India / 1965की जंग के शहीदों को ख़िराज-ए-अक़ीदत

1965की जंग के शहीदों को ख़िराज-ए-अक़ीदत

जम्मू-कश्मीर: फ़ौज ने आज 1965 की जंग में पाकिस्तान से 2अहम राजा और रानी चौकीयों पर क़बज़े के दौरान जांबहक़ 49 सिपाहीयों और ओहदेदारों को ख़िराज-ए-अक़ीदत पेश किया। बादअज़ां दोनों ममालिक के दरमियान ताशकंद मुआहिदा के पेश-ए-नज़र ये चौकियां ( पोस्ट्स ) पाकिस्तान के हवाले कर दी गईं।

इन दो चौकीयों को सिख और डोगरा के सिपाहीयों ने पाकिस्तान से छीन लिया था। फेफ्टेनेंट जनरल जी एस शेरगिल ने चीफ़ आफ़ स्टाफ़ से‍टर्ल कमांड आफ़ आर्मी ने सन्मान गुलहाए अक़ीदत पेश किया जोकि इन सिपाहीयों और ओहदेदारों की याद में तामीर की गई। महबान ने मुल्क के लिए अपनी जानें निछावर कर दी हैं।

वीज़ारत-ए-ख़ारजा के तर्जुमान लेफ्टेनेंट कर्नल मनीष महित ने बताया राजा और रानी चौकियां फ़ौजी हिक्मत-ए-अमली के एतबार से एहमीयत की हामिल थीं लेकिन ताशकंद मुआहिदे के तहत दुबारा पाकिस्तान के हवाले कर दिया गया।

TOPPOPULARRECENT