Thursday , October 19 2017
Home / Bihar News / 20 जिले सूखे की चपेट में

20 जिले सूखे की चपेट में

रियासत के कई हिस्सों में बुध को बारिश तो हुई, लेकिन जो नुकसान होना था वह हो चुका। सूखे से निबटने के लिए चीफ़ सेक्रेटरी अशोक कुमार सिन्हा की सदारत में तशकील क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप की रिपोर्ट के मुताबिक रियासत के 38 में 20 जिले सूखे क

रियासत के कई हिस्सों में बुध को बारिश तो हुई, लेकिन जो नुकसान होना था वह हो चुका। सूखे से निबटने के लिए चीफ़ सेक्रेटरी अशोक कुमार सिन्हा की सदारत में तशकील क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप की रिपोर्ट के मुताबिक रियासत के 38 में 20 जिले सूखे की चपेट में हैं। इनमें आठ जिले गया, बांका, जमुई, नालंदा, नवादा, अरवल, जहानाबाद और औरंगाबाद में तो हालत खराब है। इन जिलों में धान की रोपनी 50 फीसद से भी कम हुई है। गया और बांका में तो 30 फीसद ही रोपनी हो पायी है। रिपोर्ट के मुताबिक, पूरे रियासत में अब तक 74 फीसद ही रोपनी हुई है।

हालांकि,नहरवाले इलाकों की हालात कमोवेश ठीक है। सरकारी आदाद के मुताबिक, करीब 14 लाख हेक्टेयर इलाक़े में नहरों से पानी पहुंचाया गया है। लेकिन, पानी की कमी वाले करीब 11 लाख हेक्टेयर में लगे धान के फसल पीले पड़ने लगे हैं। सूखे का असर मिडिल बिहार में ज़्यादा है। ज़राअत महकमा की इत्तिला के मुटकबिक, अररिया, सुपौल, मशरिकी चंपारण, मगरीबी चंपारण और किशनगंज को छोड़ बाकी के 33 जिलों में आम से कम बारिश हुई है। धान का कटोरा कहे जानेवाले शाहाबाद के तीन जिले भोजपुर, बक्सर और कैमूर जिले के 29 ब्लॉक में सूखे की हालत है। इन इलाकों में 77 फीसद ही रोपनी हो पायी है। हुकूमत ने भारतीय ज़राअत तहक़ीक़ कोंसिल से ज़राअत साइंसदां को भेजने को कहा है।

सरकारी आदाद में गया, जमुई, लखीसराय, मुंगेर, पटना, शेखपुरा, नवादा, बांका, जहानाबाद, औरंगाबाद और भागलपुर जिलों में 50 फीसद ही रोपनी हुई है। मिडिल बिहार के गया और नवादा में 25 फीसद से भी कम रोपनी हुई है।

TOPPOPULARRECENT