Saturday , August 19 2017
Home / Featured News / 2002 गुजरात दंगों के लिए सरकार जिम्मेदार

2002 गुजरात दंगों के लिए सरकार जिम्मेदार

वाशिंगटन: पुलिस और सेना मानवाधिकार उल्लंघन भारत में बहुत बड़ी समस्या है। अमेरिका ने आज आशंका जताई कि सरकार की रणनीति 2002 के सांप्रदायिक दंगों के लिए जिम्मेदार थी जिसमें 1200 से अधिक लोग जिनमें अधिकांश मुसलमान थे, मारे गए थे। विदेश विभाग अमेरिका की वार्षिक मानवाधिकार रिपोर्ट 2015 का रस्म इजरा विदेश मंत्री अमेरिका जॉन केरी ने अंजाम दिया जिसमें कहा गया है कि पुलिस और सेना के अत्याचार सहित अतिरिक्त अदालत हत्याएं, यातना और बलात्कार भारत में बहुत बड़ी समस्या है। भ्रष्टाचार बड़े पैमाने पर फैला है और अपराध के प्रतिक्रिया के लिए यही जिम्मेदार है।

महिलाओं, बच्चों और अनुसूचित जातियों और जनजातियों के खिलाफ सामाजिक हिंसा आम हैं। लिंग धार्मिक प्रतिबद्धता, जाति और जनजाति के आधार पर हिंसा है। मानव अधिकारों का पालन के बारे में अमेरिका की वार्षिक रिपोर्ट विदेश विभाग के मुख्यालय में जॉन केरी ने जारी करते हुए उसके दीबाचह में कहा कि अक्सर स्थानों पर रिपोर्ट गंभीर घटनाओं के विवरण में वर्णित हैं जिससे हमारा यह दृढ़ संकल्प और स्थिर हो जाता है कि कट्टरपंथियों और मानव अधिकारों का उल्लंघन करने वालों को जवाबदेह बनाया जाए।

अमेरिकी कांग्रेस ने भारत के बारे में मानवाधिकार वार्षिक रिपोर्ट को मंजूरी दे दी है। विदेश विभाग अमेरिका ने कहा कि गुजरात दंगों के मृतकों को अभी न्याय नहीं हुआ। सामाजिक समाज के कार्यकर्ता लगातार गुजरात सरकार दोषी लोगों को दोषी करार देने के सिलसिले में बे व्यावहारिक चिंता जताते रहे हैं जिसके नतीजे में 1200 से अधिक लोग ज़्यादातर मुसलमान मारे गए थे। अपनी रिपोर्ट में विदेश विभाग अमेरिका ने आरोप लगाया कि जवाबदेही का अभाव और सभी स्तरों पर सरकार का गलत भूमिका अब तक जारी है जो बड़े पैमाने पर लोगों को जवाबदेही का खौफ न होने के लिए जिम्मेदार है। अलग होना पसंद विद्रोही और आतंकवादी जम्मू-कश्मीर और पूर्वोत्तर भारत के राज्यों में सक्रिय हैं। माओस्टों पट्टी में मानवाधिकारों का गंभीर उल्लंघन सहित सैनिकों, पुलिस, सरकारी अधिकारियों और निर्दोष नागरिकों की मौतें हो जाती हैं।

विद्रोही अनगिनत अपहरण, यातना, बलात्कार, धमकी देकर पैसे की वसूली और बच्चों को सिपाही करने के लिए जिम्मेदार हैं। अन्य मानव अधिकारों के मुद्दों के बारे में रिपोर्ट में लापता हो जाने, की विनाशकारी स्थिति और मनमाने गिरफ्तारी और हिरासत में रखना मुकदमा चलाए बिना लंबे समय तक कैद आदि शामिल हैं। रिपोर्ट के मुताबिक इस्मत रीज़याँ, घरेलू हिंसा, दहेज से संबंधित मौतों, सम्मान के लिए हत्याएं, यौन उत्पीड़न और महिलाओं से भेदभाव अन्य गंभीर सामाजिक समस्या है। रिपोर्ट में कहा गया है कि बच्चों का शोषण किया जाता है और बचपन की शादियां भी आम हैं। नागरिक समाज के प्रतिनिधि एक अनुमान के अनुसार 139 सांप्रदायिक हिंसा के मामलों में बेंग्लूर (कर्नाटक) में जनवरी से अगस्त तक शामिल रह चुके हैं।

TOPPOPULARRECENT