Monday , August 21 2017
Home / Delhi News / 2014 में बीजेपी में कई लोग आधार स्कीम को लेकर संदेह में थे- रवि शंकर प्रसाद

2014 में बीजेपी में कई लोग आधार स्कीम को लेकर संदेह में थे- रवि शंकर प्रसाद

नई दिल्ली। सूचना एवं प्रौद्योगिकी मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने माना कि 2014 के लोकसभा चुनावों के वक्त बीजेपी में कई लोग आधार स्कीम को लेकर संदेह में थे। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बाद में यह एहसास हुआ कि आधार कार्ड स्कीम गेम बदलने वाली साबित हो सकती है। प्रसाद ने DBT पर राष्ट्रीय कार्यशाला में राज्य सरकारों के प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए आधार के फायदे गिनाए।

उन्होंने कहा, ‘यह आपका काम है कि आप अपने राजनीतिक गुरुओं को DBT के फायदे के बारे में बताएं। मैं हमेशा कहता हूं कि कुछ खुले दिमाग से सही गलत का फैसला करते हैं। मैं आपको आज बताता हूं, मेरी पार्टी में कई लोग 2014 के चुनाव प्रचार के दौरान आधार को लेकर संशय में थे।

जब मुझे यह विभाग मिला तो मैंने खुले दिमाग से सोचा और प्रधानमंत्री जो नए आइडियाज को प्राथमिकता देते हैं उन्होंने भी आधार का महत्व समझा और आधार की कामयाबी सबके सामने है। हमने आधार से जुड़ी सभी बाधाओं को दूर किया।’ प्रसाद ने यह बातें एक दिन की DBT वर्कशॉप में कहीं। गुजरात के मुख्यमंत्री रहते हुए मोदी ने बार-बार आधार की आलोचना की थी।

कैबिनेट सचिव पीके सिन्हा ने कॉन्फ्रेंस में घोषणा कि DBT में अच्छा प्रदर्शन करने वाले राज्यों को DBT की सेविंग्स से प्रोत्साहन राशि दी जाएगी। प्रसाद ने आगे कहा, ‘हम DBT से राज्य और केंद्र के 36,500 करोड़ पहले ही बचा चुके हैं। यह कम राशि नहीं है और यह सिर्फ दो साल में बचाई गई है। सोचिए कि राज्य और केंद्र की सभी योजनाओं को अगर DBT के द्वारा चलाया जाए तो हम कितना पैसा बचा सकते हैं।

TOPPOPULARRECENT