Sunday , September 24 2017
Home / Jharkhand News / 21 हजार उम्मीदवार पंचायत इंतिखाब में बिला मुक़ाबला जीते

21 हजार उम्मीदवार पंचायत इंतिखाब में बिला मुक़ाबला जीते

रांची : रियासत में खत्म हुए दूसरे पंचायत इंतिख़ाब में पहले के मुक़ाबले मे दोगुने उम्मीदवार बिना मुक़ाबले के जीते हैं। 2010 में हुए पहले पंचायत इंतिख़ाब में बिला मुकाबले जीतने वालों की तादाद 10 हजार 598 थी। इस बार यह बढ़कर 21 हजार 100 हो गई है। हालांकि, पंचायती राज के डाइरेक्ट इंतिख़ाब वाले चारों ओहदे के लिए सीटों की तादाद भी लगभग डेढ़ गुना बढ़ी है। 2010 में यह 43 हजार से कुछ ज़्यादा थी। इस बार 64 हजार 700 सीटों पर इंतिख़ाब की एलान की गई थी। सीटों में इजाफा के डेढ़गुना तनासिब के मुक़ाबले में बिना मुक़ाबला जीतने वालों की तादाद में दोगुने की बढ़ोत्तरी चौंकाने वाली है।

बिला मुक़ाबला जीतने वालों की तादाद में ग्राम-पंचायत मेंबरों और पंचायत समिति मेंबरों के मामले में ही इजाफा हुई है। जिला काउंसिल और पंचायत समिति मेंबरों के मामले में यह तादाद घटी है। 2010 में जिला काउंसिल के चार मेम्बर बिला मुकाबला जीते थे। इस बार सिर्फ दो हैं। इसी तरह 2010 में 38 मुखिया बिला मुक़ाबला जीते थे। 2015 में बिना इंतिख़ाब के जीतने वाले मुखियों की तादाद महज 31 है। वहीं पंचायत समिति मेम्बर की सीटों पर बिला मुक़ाबला जीतने वालों की तादाद 122 से बढ़कर 294 हो गई है। ग्राम-पंचायत मेम्बर भी 2010 में 10 हजार 434 के मुक़ाबले में 2015 में 20 हजार 773 बिला मुक़ाबला जीते हैं।

रियासत की ढाई फीसद पंचायत सीटें बिना नुमाइंदगी के ही रह गईं। 64 हजार 700 सीटों में से 1564 सीटों पर कोई उम्मीदवार नहीं मिला। इन सीटों पर एक भी नॉमिनेशन नहीं होने से यहां वोटिंग से पहले ही जीमनी इंतिखाब की सुरते हाल पैदा हो गई। छह महीने के बाद रियासती एलेक्शन कमीशन इन डेढ़ हजार सीटों पर फिर नए सिरे से इंतिख़ाब की नोटिफिकेशन जारी करेगा। इसके बाद यहां वोटिंग होंगे। इंतिख़ाब के बाद भी खाली रह जाने वाली 1564 सीटों में से1522 ग्राम-पंचायत मेंबरों के, 13 मुखिया के और 29 पंचायत समिति मेंबरों के हैं। जिला काउंसिल मेंबरों की कोई भी सीट ऐसी नहीं हैं।

 

TOPPOPULARRECENT