Wednesday , September 27 2017
Home / Bihar/Jharkhand / 32 करोड़ के बैंक घोटाले में सीबीआइ की छापेमारी

32 करोड़ के बैंक घोटाले में सीबीआइ की छापेमारी

रांची : सीबीआइ रांची ने 32.75 करोड़ रुपये के बैंक घोटाले में जमशेदपुर और रामगढ़ में छापा मारा. छापामारी के दौरान गड़बड़ी से मुताल्लिक दस्तावेज जब्त किये गये हैं. इस बैंक घोटाले में सीबीआइ ने कुल चार प्राथमिकी दर्ज की है और कंपनी व उससे जुड़े लोगों को मुलजिम बनाया है.

सीबीआइ ने रामगढ़ के मेसर्स टीआरएल और मेसर्स एके इंजीनियरिंग और जमशेदपुर के मेसर्स एमके इंजीनियरिंग और मेसर्स टेमकॉन के ठिकानों पर छापा मारा. इन कंपनियों व उससे जुड़े लोगों ने जालसाजी कर बैंक से 32.75 करोड़ रुपये की कैश क्रेडिट सहूलत ली थी. पंजाब नेशनल बैंक से 13.75 करोड़ और यूको बैंक से 19 करोड़ रुपये की जालसाजी की गयी थी. बैंक घोटाले को अंजाम देने के लिए एक कंपनी के लोग, दूसरी कंपनी में गारंटर बने और गिरवी के तौर में फर्जी दस्तावेज जमा कराये. साथ ही उसके कीमत में भी छेड़छाड़ की. जांच में पाया गया कि एमके इंजीनियरिंग के पार्टनर शाहिद खान और जावेद खान है.

पंजाब नेशनल बैंक(बिष्टुपुर) से मेसर्स एमटीआरएल को कैश क्रेडिट सहूलत दिलाने के लिए शाहिद खान गारंटर बना. इसी तरह एमटीआरएल के पार्टनर सेराज खान और एजाज खान यूको बैंक (मेन ब्रांच जमशेदपुर) में मेसर्स एमके इंजीनियरिंग को कैश क्रेडिट सहूलत दिलाने के लिए गारंटर बने. एमके इंजीनियरिंग ने फर्जी दस्तावेज में भी जालसाजी की और दो लाख रुपये कीमत के दस्तावेज का मूल्य दो करोड़ कर दिया. इसी तरह मेसर्स एमटीआरएल ने तीन लाख के दस्तावेज के मूल्य को तीन करोड़ कर दिया.

मुलजिमान का तफ्सीलात

मेसर्स एमके इंजीनियरिंग, जमशेदपुर
मेसर्स टेमकॉन, जमशेदपुर
मेसर्स टीआरएल, रामगढ़
मेसर्स एके इंजीनियरिंग, रामगढ़
शाहिद खान, जावेद खान, शादाब खान
एजाज खान, सेराज खान व शुभाशिष सिन्हा

TOPPOPULARRECENT