Wednesday , July 26 2017
Home / Kashmir / 370 कश्मीरी युवा पीएसए के तहत जेलों में बंद: महबूबा मुफ्ती

370 कश्मीरी युवा पीएसए के तहत जेलों में बंद: महबूबा मुफ्ती

जम्मू: जम्मू-कश्मीर के मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने कहा कि 370 कश्मीरी युवाओं को पब्लिक सेफ्टी एक्ट (पीएसए) के तहत राज्य के विभिन्न जेलों में कैद रखा गया है।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

बसीरत ऑन लाइन के अनुसार, सुश्री मुफ्ती ने सोमवार को विधानसभा में एक सवाल के जवाब में कहा, ‘इस समय 370 युवा जेलों में कैद हैं जिन पर कश्मीर में तनाव के दौरान पीएसए लगाया गया’।उन्होंने कहा कि सरकार आगे की कार्रवाई के लिए मामलों की समीक्षा रही है। महबूबा मुफ्ती ने कहा कि ऐसे पत्थर बाजों के मामले भी विचाराधीन हैं जिनके खिलाफ संगीन मामले दर्ज नहीं हैं और हालिया तनाव से पहले पत्थर बजी में लिप्त न रहे हों। इसके अलावा विभिन्न दीगर मामलों में 138 युवा विभिन्न जेलों में कैद हैं।
जम्मू-कश्मीर में जिन पर यह अधिनियम लगाया जाता है उनमें से ज्यादातर को कश्मीर से बाहर जम्मू या दूसरे राज्यों की जेलों में ले जाया जाता है।
महबूबा मुफ्ती ने कहा कि हालिया तनाव के दौरान सुरक्षा बलों की कार्रवाई में मारे गए लोगों के वारिस को 5 लाख रुपये बतौर मुआवज़ा और परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी दी जाए गी. मुख्यमंत्री ने कहा कि घाटी में तनाव के दौरान एटीएम गार्ड और लेक्चरर की हत्या की जांच के लिए एक विशेष जांच दल का गठन किया गया है। अन्य नागरिक मौतों की जांच जिला स्तरीय विशेष जांच टीमें करेंगी। हालांकि विपक्षी नेशनल कांफ्रेंस और कांग्रेस ने कड़ा विरोध जताते हुए नागरिक मौतों की न्यायिक जांच कराने की मांग की है।
विपक्ष के विरोध के दौरान एनसी विधायक अब्दुल मजीद लार्मी को मारशलों के द्वारा सदन से निष्कासित कर दिया गया।
उल्लेखनीय है कि घाटी में 8 जुलाई को हिज्बुल मुजाहिदीन कमांडर बुरहान वाणी की हत्या के बाद भड़के स्वतंत्रता समर्थक विरोध प्रदर्शन की लहर के दौरान सुरक्षा बलों की कार्रवाई में कम से कम 96 नागरिक मारे गए 15 हजार अन्य घायल हो गए।
इसके अलावा राज्य पुलिस के दो अधिकारी मारे गए. विरोध प्रदर्शनकारियों के खिलाफ गतिविधियों का सबसे दुखद पहलू यह रहा कि सैकड़ों लोग विशेषकर युवा ऐसे हैं जो छर्रों (पैलेट) लगने से अपनी एक या दोनों आँखों की दृष्टि से वंचित हो गए . पैलेट गन या छर्रों वाली बंदूक के शिकार नागरिकों में ऐसे कमसिन लड़के और लड़कियां भी शामिल हैं, जिनकी उम्र पांच से दस वर्ष के बीच है।
पैलेट गन के शिकार होने वाले युवा और बच्चे अब अपने भविष्य के बारे में बेहद निराशा का शिकार हैं।
पीएसए जिसे मानवाधिकार संगठन एमनेस्टी इंटरनेशनल ने 2011 में एक अवैध कानून करार दे दिया, के तहत न्यायिक सुनवाई के बिना किसी भी व्यक्ति को कम से कम तीन महीने तक कैद किया जा सकता है।

TOPPOPULARRECENT