Monday , October 23 2017
Home / Delhi News / 70 सालों के बाद भी दलित मुद्दों पर चर्चा से पीड़ा होती है- राजनाथ सिंह

70 सालों के बाद भी दलित मुद्दों पर चर्चा से पीड़ा होती है- राजनाथ सिंह

नयी दिल्ली : दलित मुद्दों पर आज लोकसभा में चर्चा हुई . चर्चा के अंत में गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने सरकार का पक्ष सामने रखा. उन्होंने कहा, 70 सालों के बाद भी दलित मुद्दों पर हो रही चर्चा से पीड़ा होती है. वैसे लोग जो समाज में पीछे रह गये, दलित पर हो रहे अत्याचार को लेकर हमें मिलकर कोशिश करनी होगी. उन लोगों को साथ लेकर चलना होगा.

गृहमंत्री ने अपने वक्तव्य में कई महापुरुषों का उल्लेख किया. स्वामी विवेकानंद ने कहा था जब तक दलितों का उत्थान नहीं होता भारत का विकास नहीं हो सकता. स्वामीविवेकानंद के अंदर भी यह पीड़ा थी. महात्मा गांधी ने अपृश्यता के बारे में कहा कि हरिजनों के साथ वैसा व्यवहार करें जैसा हम अपन भाई बहनों के साथ करते हैं, बाबा साहेब ने कहा, राष्ट्रवाद तभी औचित्य है जब जातपात और रंगभेद को दूर किया जाए.

दलित उत्पीड़न को रोकने के लिए उनके विकास के लिए कानून बना रही है नयी योजनाएं ला रही है. सबसे पहले 1955 में एक कानून लाया गया था. इसके बाद भी पाया गया कि उनका सामाजिक विकास नहीं हो पा रहा. उनके शैक्षिक स्तर को बढ़ाने का प्रयास किया गया. इसके बावजूद भी उन पर अत्याचार जारी था. इसे दूर करने के लिए 1989 को शिड्यूल कास्ट एंड शिड्यूल ट्राइप आया इसमें हमने संशोधन करके कई चीजें जोड़ी है.

TOPPOPULARRECENT