Thursday , June 29 2017
Home / India / मिसाल: बिना पैसे लिए बच्चों को शिक्षा दे रहे अब्दुल रहीम अंसारी

मिसाल: बिना पैसे लिए बच्चों को शिक्षा दे रहे अब्दुल रहीम अंसारी

भदोही: आज के वक़्त में शिक्षा का बाजारीकरण हो रहा है। स्कूलों की प्रतिष्ठा और शिक्षकों की ईमानदारी खत्म हो रही है। जिसके कारण लोगों का स्कूलों और शिक्षकों पर से यकीन उठता जा रहा है।
ऐसे में हमारे शिक्षक की कहानी सामंने आई है। जो बिना पैसे लिए फ्री में बच्चों को शिक्षा बाँट रहे हैं।
इनका नाम है अब्दुल रहीम अंसारी।

अब्दुल रहीम अंसारी आज के वक़्त के सभी शिक्षकों के लिए एक मिसाल और अपने पेशे के लिए समर्पित होने का संदेश देते हैं।

भदोही के काजीपुर मुहल्ले के रहने वाले अब्दुल रहीम अंसारी नगर के अयोध्यापुरी प्राइमरी स्कूल में असिस्टेंट टीचर रहे हैं। साल 2007 में अब्दुल रहीम अंसारी रिटायर हो गये। लेकिन अपने पेशे के लिए उनका प्यार तब भी बरकरार रहा।
रिटायरमेंट के दो दिन बाद ही उन्होंने एक बार फिर से उसी स्कूल में पढ़ाने के लिए प्रिंसिपल से इच्छा जाहिर की। प्रिंसिपल को उनका ये समर्पण बहुत अच्छा लगा और एक बार फिर बच्चों को पढ़ाने लगे।

अब्दुल हर रोज पांच वक़्त की नमाज करते हैं और पिछले 10 सालों से स्कूल में आकर बच्चों को पढ़ाते हैं। वह इसके लिए अब तनख्वाह नहीं लेते हैं। उनका कहना है कि मैं ऐसा इसलिए कर रहा हूँ ताकि देश की आने वाली पीढ़ी का भविष्य सुरक्षित हो।

स्कूल प्रसाशन ने उन्हें काफी बार पैसे देने की कोशिश भी की। लेकिन उन्होंने इसे नहीं लिया। उनका कहना है कि आज भी सरकार उन्हें आधी तनख्वाह देती है और जब तक शरीर साथ देगा वे बच्चों को बिना कोई पैसा लिए ही पढ़ाएंगे।

Top Stories

TOPPOPULARRECENT