Tuesday , October 17 2017
Home / Uttar Pradesh / 7 साल में AMU की कोचिंग में ख़र्च हुए 11.65 करोड़ और सिर्फ़ 4 उम्मीदवार UPSC में हुए कामयाब

7 साल में AMU की कोचिंग में ख़र्च हुए 11.65 करोड़ और सिर्फ़ 4 उम्मीदवार UPSC में हुए कामयाब

2017 के यूपीएससी के नतीजे मुस्लिम समुदाय के लिए नई उम्मीदें और खुशियां लेकर आए । कुल 1,0 99 सफल उम्मीदवारों में से 51 मुस्लिम उम्मीदवारों ने संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) की अंतिम सूची में अपनी जगह बनाई ।

जामिया मिलिया इस्लामिया आवासीय कोचिंग अकादमी के लिए, यह एक बहुत ही खास मौका था, क्योंकि इस अकादमी में पढ़ रहे 27 छात्रों ने यूपीएससी की परीक्षा पास की ।
2010 में इस अकादमी की शुरुआत की गई थी, और सात सालों में जामिया की फैकल्टी के समर्पण और स्टूडेंट्स की कड़ी मेहनत से 93 परीक्षार्थी सिविल सर्विस में कामयाबी हासिल कर चुके हैं ।

हर साल, जामिया मिलिया इस्लामिया में आवासीय कोचिंग अकादमी (सेंटर फॉर कोचिंग एंड कैरियर प्लानिंग) ने अल्पसंख्यकों की श्रेणियों से संबंधित हॉस्टल सुविधा के साथ 200 से ज्यादा उम्मीदवारों (150 लड़के और 50 लड़कियां) के लिए मुफ्त कोचिंग के लिए आवेदन आमंत्रित किए जाते हैं ।

लेकिन जामिया से लगभग 130 किमी दूर, अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय की आवासीय कोचिंग अकादमी का प्रदर्शन बेहद निराशाजनक रहा है । ये आरसीए भी साल 2010 में शुरु हुई थी क्योंकि इसके छात्रों में से कोई भी यूपीएससी की अंतिम सूची में जगह बनाने में काययाब नहीं सके ।

एक आरटीआई से इस बात का खुलासा हुआ है । चार अन्य विश्वविद्यालयों में स्थापित आरसीए जैसे समान फंड प्राप्त करने के बावजूद, क्यों एएमयू का केंद्र प्रदर्शन करने में सक्षम नहीं है । ये आरसीए जामिया मिलिया इस्लामिया, नई दिल्ली, मौलाना आजाद नेशनल उर्दू यूनिवर्सिटी, हैदराबाद, जामिया हमदर्द, नई दिल्ली और अम्बेडकर विश्वविद्यालय, लखनऊ में स्थापित है ।

आरटीआई के जवाब में एएमयू के सेक्शन अधिकारी ने बताया कि 2010 से 2016 तक आवासीय कोचिंग अकादमी से केवल चार छात्रों ने यूपीएससी परीक्षा उत्तीर्ण की है। सिविल सेवा परीक्षाओं के लिए एएमयू की कोचिंग में 6 सालों में कुल 644 छात्रों ने एडमीशन लिया था ।

 

644 छात्रों में से सिर्फ़ 4 छात्र ही इतने सालों में यूपीएससी परीक्षा पास कर पाए जो कि बहुत कम है । 2010 से 2017 तक, केवल 22 उम्मीदवारों ने राज्य प्रशानिक सेवा परीक्षाएं पास कीं जबकि 27 ने न्यायिक सेवाओं में चले गए ।

आरसीए का ये प्रदर्शन बेहद खराब है क्योंकि 2016-2017 में अकादमी द्वारा नियुक्त कर्मचारियों के वेतन पर 9.83 लाख रुपये खर्च किए गए है ।

2010 से जब एएमयू में आरसीए स्थापित हुआ था, तो विभिन्न कार्यों के लिए 11.65 करोड़ रुपये खर्च किए गए हैं। इतनी बड़ी राशि खर्च करने के बावजूद, प्रतियोगी परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले छात्रों की संख्या बहुत कम बनी हुई है।

 

 

एएमयू आरसीए के निदेशक प्रोफेसर एम कालिमुद्दीन अमहद ने कहाकि “हां, प्रारंभिक वर्षों में कम परिणाम था क्योंकि क्लास को नियमित रूप से नहीं आयोजित किया गया था । जिसकी वजह थी कि अकादमी चलाने के लिए बहुत कम पैसा था, लेकिन जक़ात फाउंडेशन जैसे संस्थानों से फंड मिलना शुरु हो गया ।

यूजीसी को एएमयू को दी गई राशि को छात्रों पर खर्च किया गया है, कुल 11.65 करोड़ रुपए में से, 10.5 करोड़ रूपये विकासशील बुनियादी ढांचे पर खर्च किए गए थे और संकाय की सेवाओं की भर्ती के लिए बाकी का इस्तेमाल किया गया था। इस साल हम अच्छे परिणाम की उम्मीद कर रहे हैं ।

 

TOPPOPULARRECENT