Sunday , August 20 2017
Home / Literature / हाशिए पर पड़े लोगों के दर्द बयान करती किताब ‘आवाज़_ए_मूलनिवासी’

हाशिए पर पड़े लोगों के दर्द बयान करती किताब ‘आवाज़_ए_मूलनिवासी’

मौजूदा समय में 20 साल की गुरमेहर कौर को बोलने की वजह से मिल रही धमकियों के बीच 19 साल भावना मीना ने एक किताब लिखी है। आवाज़_ए_मूलनिवासी। यूँ तो अपने नाम से ही ये किताब अपने वजूद में आने का मतलब बयां कर दे रही है लेकिन फिर अभी अगर एक लाइन में कहें तो इस मकसद मूलनिवासियों यानी कि आदिवासियों और हाशिए के लोगों के मुद्दों पर चर्चा के पटल पर रखना और उस पर विचार करना है।

क्या कहती हैं लेखिका

मैं इस किताब के माध्यम से मूलनिवासियों की बात करते समय कुछ पहलुओं को उठाना चाहती हूँ पहली बात यह है कि इस देश के मूलनिवासियों पर लिखने से पहले उनकी विचारधारा को समझना जरूरी है कि आप उनके साथ कितना न्याय कर पाते है क्योंकि तब ही हम इस देश के मूलनिवासियों की समस्या का समाधान कर सकते है। दूसरी बात यह है कि गैर-मूलनिवासियों द्वारा जो कुछ लिखा जा रहा है, उनका वो लेखन इस देश के मूलनिवासियों के साथ ठीक तरह से न्याय नही कर पा रहा है। आज इस देश के मूलनिवासियों के साहित्य को तोड़-मरोड़कर पेश करनी की कोशिश की जा रही है।

भारतीय संस्कृति और सभ्यता के सब ओर इस देश के मूलनिवासियों की परंपरायें और प्रथायें छाई हुई हैं। फिर भी, इस तथ्य की जानकारी आम लोगों में नहीं है। भारतीय दर्शनशास्त्र, भाषा, एवं रीति-रिवाज में मूलनिवासियों के योगदान के फैलाव और महत्व को अक्सर इतिहासकार और समाजशास्त्रियों के द्वारा कम करके आंका और भुला दिया जाता है।

मूलनिवासियों की सभ्यता, संस्कृति और अधिकारों को इतिहासकारों और समाजशास्त्रियों ने अपनी पुस्तकों या विचारों में प्रस्तुत नहीं किया है, उन्ही मूलनिवासियों की सभ्यता, संस्कृति और अधिकारों की चर्चा इस पुस्तक में की गई है। इस देश के मूलनिवासियों का मनुवादी लोग किस तरह शोषण कर रहे है, इस बात का जिक्र इस पुस्तक में किया गया है और इस पुस्तक में मनुवादियों के धार्मिक आडम्बरों का भी सच उजागर किया गया है।

किताब खरीदने के लिए इस लिंक पर क्लीक करें

TOPPOPULARRECENT