Wednesday , July 26 2017
Home / Politics / BJP तो मुख्यमंत्री का चेहरा तक न पेश कर सकी: मायावती

BJP तो मुख्यमंत्री का चेहरा तक न पेश कर सकी: मायावती

मऊ: बसपा सुप्रीमो मायावती ने मऊ जिला मुख्यालय पर एक चुनावी जनसभा को संबोधित किया. उन्होंने मुख्तार अंसारी को जिताने की अपील की. मुख्तार अंसारी के गढ़ में आयोजित रैली में बसपा सुप्रीमो ने कहा कि मुख्तार अंसारी को रिकॉर्ड मतों से जिताकर पीएम मोदी को जवाब दिया जाना चाहिए. मायावती ने कहा कि मुख्तार अंसारी भले ही जेल में बंद हो लेकिन जनता उनके साथ है, जनता उन्हें जिताएंगे.

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

बसीरत ऑन लाइन के अनुसार, मायावती ने अपने भाषण के दौरान बीजेपी के अलावा सपा पर भी जम कर हमला किए. रघुराज प्रताप सिंह के बहाने अखिलेश यादव पर निशाना साधते हुए कहा कि जिस को मैं ने जेल भेजा था, उसे सपा ने अपनी सरकार में मंत्री बना कर रखा हुआ है.
मऊ में हुई पीएम मोदी की रैली पर भी मायावती ने तंज किया. उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी की रैली में नकल की भीड़ बुलाई गई थी. दूसरे जिलों से नकल की भीड़ लाकर पीएम मोदी ने कहा कि मैदान छोटा पड़ गया है. भाजपा अपनी हार स्वीकार कर चुकी है. भीड़ के सहारे जनता को भ्रम में डाल रही है. जो पार्टी मुख्यमंत्री का चेहरा नहीं दे सकी, वह पार्टी सरकार बनाने का ख्वाब देख रही है. पीएम खुद को गोद लिया बेटा बताकर नौटंकी कर रहे हैं. मसलमानों और आरक्षण के मुद्दे को लेकर भी उन्होंने भाजपा पर हमला बोला. मायावती ने कहा कि भाजपा मुसलमानों के साथ सौतेला व्यवहार करती है. अगर भाजपा उत्तर प्रदेश की सत्ता में आई तो आरक्षण समाप्त कर देगी.

बसपा सुप्रीमो ने सपा और अखिलेश यादव को भी निशाने पर लिया. अखिलेश यादव पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि सपा अपने दागदार चेहरे वाले सीएम को सामने लाकर चुनाव लड़ रही है. सपा सरकार के चलते हर तरफ असुरक्षा और आतंक का माहौल हावी है. सपा सरकार पर फिजूलखर्ची का भी आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा कि गरीबों के कल्याण पर खर्च होने वाला पैसा सपा सरकार के प्रचार में खर्च किया जा रहा है. राज्य की सपा सरकार पर अपनी नकल करने का आरोप लगाया. अखिलेश यादव को घेरते हुए मायावती ने कहा कि सपा और भाजपा की मदद से रघुराज प्रताप सिंह हर बार चुनाव जीत जाता है. जिसे मैं ने जेल भेजा इस बब्बा ने अपनी सरकार में मंत्री बना कर रखा.

TOPPOPULARRECENT