Sunday , September 24 2017
Home / Khaas Khabar / बीजेपी नेता की गौशाला में मरी गायों को कुत्तों ने खाया, अब कहां हैं गौरक्षक ?

बीजेपी नेता की गौशाला में मरी गायों को कुत्तों ने खाया, अब कहां हैं गौरक्षक ?

छत्तीसगढ़ के दुर्ग में गौशाला के इंचार्ज बीजेपी नेता हरीश वर्मा को गिरफ्तार कर लिया गया है । हरीश की गौशाला में 200 से ज्यादा गायों की मौत भूख की वजह से हो गई । जिसके बाद पुलिस ने हरीश को ‘विश्‍वासघात” और ‘अनदेखी’ के लिए पुलिस ने गिरफ्तार किया।

दुर्ग जिले के राजपुर गांव में बनी शगुन गौशाला के मेन गेट पर ‘कमल’ बना हुआ है, जहां दर्जनों गायें मर गईं और सैंकड़ों मौत के कगार पर खड़ी हैं । यहां की गायें बेहद कमजोर हैं, पसलियां साफ दिखाई देती हैं ।

गौशाला में पिछले हफ्ते भर में मौत की शिकार हुई कई गायों के अवशेष भी पड़े हैं। कुछ लाशें खेतों में सड़ रही हैं । गाय पर राजनीति करने वाली बीजेपी के लिए ये शर्म की बात है कि उनके नेता की गौशाला में दर्जनों गायें मर गईं और उनकी लाशें को आवारा कुत्‍तों नोंच लिया है ।

गायों की अनदेखी और उनकी दर्दनाक़ मौतों से राजपुर के निवासी गुस्से में हैं । ग्रामीण और अधिकारी गायों की इस बदहाली के लिए हरीश वर्मा को ज़िम्मेदार ठहरा रहे हैं लेकिन हरीश का आरोप है कि उसकी पार्टी की अपनी सरकार ने इस स्‍तर की गौशाला चलाने के लिए जरूरी सालाना ग्रांट नहीं दी, वह भी तब राज्‍य में गौ-हत्‍या पर प्रतिबंध है।

स्‍थानीय निवासी पिछले हफ्ते में भर में ”200 गायों की मौत” होने की बात कहते हैं, मगर पशु चिकित्‍सक इस बात की पुष्टि करते हैं कि उन्‍होंने दो दिन में 27 पोस्‍टमॉर्टम किए हैं। शुक्रवार को, द इंडियन एक्‍सप्रेस के रिपोर्टर को गौशाला में 30 लाशें देखने को मिलीं।

स्थानीय लोगों को गौशाला में कुछ गलत होने का अंदाज़ा तब हुआ जब लोगों ने जेसीबी से गहरे गड्ढे खोदते और ट्रैक्‍टर में गायों के अवशेष ले जाते दिखा । राजपुर गांव के सरपंच पति शिव राम साहू का कहना है, ”इससे पहले, उन्‍होंने कभी किसी को गौशाला में घुसने नहीं दिया था। लेकिन जब हमने यह सब सुना तो हम अंदर गए और गायों की लाशें देखीं। जो बची हैं, उनके खाने-पीने को कुछ नहीं है।”

इतनी बड़ी संख्या में गायों की मौत से हड़कंप मच गया । धमधा के एसडीएम राजेश पात्र कहते हैं, ”हम मामले की जांच कर रहे हैं और कानून के मुताबिक कार्यवाही की जाएगी। मैं आपको मृत गायों की निश्चित संख्‍या नहीं बता सकता। लेकिन शुरुआत में ऐसा लगता है कि उनकी मौत चारे-पानी की कमी की वजह से हुई। अब हमने उनके खाने-पीने का इंतजाम कर दिया है।”

 

TOPPOPULARRECENT