Wednesday , June 28 2017
Home / India / भूखे-प्यासे किसान जब सभा में खड़े होने लगे तो भाजपा मंत्री बोले- ड्राइवरों से चाबी छीन लो, कोई नहीं जाएगा

भूखे-प्यासे किसान जब सभा में खड़े होने लगे तो भाजपा मंत्री बोले- ड्राइवरों से चाबी छीन लो, कोई नहीं जाएगा

विदिशा: किसानों के कार्यक्रम में जब किसान भीषण गर्मी से परेशान होकर जाने लगे तो मंत्री महोदय ने आदेश दिया कि किसानों को लाने वाली गाड़ियों के ड्राइवरों से चाबी छीन ली जाए। ऐसी गुंडागर्दी मध्य प्रदेश में भाजपाई कृषि मंत्री ने दिखाई है।

मामला कुछ यूँ है कि कृषि महोत्सव अभियान के तहत चल रहे कृषि सम्मेलन में बीजेपी विधायक कल्याण सिंह दांगी भाषण दे रहे थे। लेकिन बढ़ती गर्मी और ढाई घंटे लेट शुरु हुए कार्यक्रम की वजह से परेशान किसान पंडाल से उठकर जाने लगे।

एक साथ बड़ी संख्या में किसानों को जाते हुए देख कृषि मंत्री गौरीशंकर बिसेन का सब्र टूट गया और वे माइक पर जा पहुंचे।

गौरीशंकर बिसेन ने माइक पकड़कर डांटने वाले अंदाज में किसानों से कहा कि तुम लोग कहां जा रहे हो। तुम्हारे लिए ही ये कार्यक्रम रखा गया है। इसके बाद भी किसान नहीं रुके तो उन्होंने पुलिस वालों से कहा कि जितनी भी बसें और जीपें खड़ी हैं, उनके सभी ड्राइवरों से चाबी छीन लो ताकि कोई किसान यहां से जाने न पाए। उन्होंने यह भी कहा कि किसी को कार्यक्रम के समापन तक भोजन भी न दिया जाए।

मंत्री की बात सुनकर किसानों को भी गुस्सा आ गया और वो अव्यवस्थाओं पर भड़क उठे । किसानों ने भी चिल्लाकर कहा कि उनके लिए पानी तक का इंतजाम नहीं किया हैं।

इस पर मंत्री ने कृषि विभाग के अमले को फटकार लगाते हुए कहा कि किसानों के लिए तत्काल पानी का इंतजाम किया जाए। 10 मिनट तक पानी नहीं आने पर किसान फिर से पानी मांगने लगे।

करीब आधे घंटे बाद कृषि विभाग के कर्मचारी पानी के पाउच की दो बोरियां लेकर पांडाल में पहुंचे। उनके पहुंचते ही किसान पानी के लिए टूट पड़े और धक्का-मुक्की जैसा माहौल बन गया।

हालाँकि फिर भी सुबह से घर से निकले और गर्मी से बेहाल किसानों का गुस्सा कार्यक्रम के दौरान नजर आ रहा था।

किसानों ने बताया कि वे लोग कार्यक्रम में भूखे प्यासे परेशान हो रहे हैं। पंडाल में देखने के लिए तो चार पांच कूलर रखे थे, लेकिन उनमें पानी नहीं डला था, जिस कारण वे गर्म हवा दे रहे थे।

किसानों ने बताया कि बसों में बैठाकर सुबह से उन्हें विदिशा ले आए थे। लेकिन मंत्री के इंतजार में वे दिनभर तपती धूप टेंट के नीचे बैठे-बैठे परेशान हो गए। स्टालों पर भी कोई खास जानकारी नहीं मिल रही थी।

 

Top Stories

TOPPOPULARRECENT