Friday , October 20 2017
Home / India / शर्मनाक: कश्मीरी युवक से डॉक्टर बोला- हमारे जवान को पत्थर मारते हो और इलाज यहाँ कराने आते हो

शर्मनाक: कश्मीरी युवक से डॉक्टर बोला- हमारे जवान को पत्थर मारते हो और इलाज यहाँ कराने आते हो

चंडीगढ़ के पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च (पीजीआईएमईआर) के एक डॉक्टर ने कथित तौर पर एक कश्मीरी महिला और उसके बेटे से दुर्व्यवहार किया। घाटी में सुरक्षा बलों पर पत्थर फेंक इलाज के लिए चंडीगढ़ आने के लिए उन्हें धक्का दे दिया।

उनके परिवार के अनुसार श्रीनगर के रहने वाली नसरीना मलिक (55), इंट्राकैनलियल एन्यूरिज्म से पीड़ित हैं और पीजीआई के पास न्यूरोसर्जिकल सर्जरी के बारे में परामर्श के लिए लाया गया था। परिवार ने कहा कि उन्होंने इलाज की लागत के बारे में चिकित्सक के दुर्व्यवहार और गलत सूचना के बाद एक अस्पताल से चले गए।

 

यह घटना गुरुवार को हुई थी। नसरीना के बेटे जावेद मलिक ने हिंदुस्तान टाइम्स को बताया कि डॉ मनोज तिवारी डॉक्टर के केबिन के बाहर नामपट्टी को पढ़ा था हालांकि जावेद ने कहा कि वह निश्चित नहीं है कि दुर्व्यवहार करने वाले डॉ तिवारी थे या नहीं। हम केबिन में गए तो उन्होंने सभ्य तरीके से हमारे साथ बात की और जांच शुरू की। फिर उसने रोगी के बारे में पूछा।

 

मैंने उन्हें श्रीनगर के एसकेआईएमएस अस्पताल से पिछले दस्तावेजों को दिखाया तो उन्हें पता चला कि हम कश्मीरी हैं फिर उनका रवैया बदल गया। उन्होंने नाराजगी जाहिर की और दस्तावेजों को फेंक दिया और कहा कि ‘वाह कश्मीर मेरा हिमारा जवाणो को पैठटर मार ते हो और फर यान इल्हाज के लिए एट हो’ (“आप लोग कश्मीर में सुरक्षा कर्मियों पर पत्थर फेंकते हैं और इलाज के लिए यहां आते हो)।

 

जावेद ने कहा कि श्रीनगर में एक डाक्टर के अनुसार सर्जरी की लागत 15 लाख रुपये होगी जबकि इसी तरह की बीमारियों वाले अन्य मरीजों ने उन्हें बताया कि उसे दवाइयों और अन्य खर्चों सहित अधिकतम 80,000 रुपये खर्च करने होंगे। डॉक्टर ने यह भी सुझाव दिया कि उन्हें दिल्ली में एम्स जाना चाहिए। इस तरह के व्यवहार और गलत सूचना के कारण मैंने अपनी माँ के साथ ही पीजीआई छोड़ दिया । अब हम इलाज के लिए दिल्ली जाने पर विचार कर रहे हैं।

 

पीजीआईएमआर के निदेशक डॉ जगत राम ने बताया हर रोज सैकड़ों लोग कश्मीर से पीजीआईएमआर के इलाज के लिए जाते हैं और हम सभी के लिए सर्वोत्तम गुणवत्ता उपचार प्रदान करते हैं। हमें कोई शिकायत नहीं मिली है, लेकिन अगर ऐसा कुछ हुआ है तो हम मामले की जांच करेंगे। श्रीनगर स्थित अंग्रेजी दैनिक द्वारा रिपोर्ट की गई स्टोरी ने सोशल मीडिया पर मजबूत प्रतिक्रिया दी है।

TOPPOPULARRECENT