Sunday , October 22 2017
Home / Khaas Khabar / कश्मीरी युवक को आर्मी जीप पर बांधकर घुमाने वाले मेजर को क्लीन चिट

कश्मीरी युवक को आर्मी जीप पर बांधकर घुमाने वाले मेजर को क्लीन चिट

नई दिल्ली: कश्मीरी युवक को आर्मी जीप के बोनेट पर बांधकर घुमाने वाले मेजर को सेना की कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी (सीओआई) ने क्लीन चिट दे दी है। इंडियन एक्सप्रेस अखबार के मुताबिक बंधक बनाकर युवक को घुमाने वाले मेजर नितिन गोगोई के खिलाफ किसी भी प्रकार की कार्यवाई नहीं की गई है। इससे पहले माना जा रहा था कि कोर्ट मेजर को मार्शल कर सकती है। इतना ही नहीं अफसर के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की सिफारिश भी नहीं की गई है।

अखबार ने सूत्रों के हवाले से लिखा है कि उस दिन मेजर की अगुआई वाली 5 गाड़ियों में जवान, 12 चुनाव अधिकारी, 9 आईटीबीपी के जवान और दो पुलिसवाले बैठे थे। ऐसा करने का सीधा मकसद कश्मीर के उपचुनावों में पत्थरबाजी को रोकना था और इसकी आइडिया मेजर ने सूझाया था।

गौरतलब है कि 9 अप्रैल को सोशल मीडिया पर इस घटना का एक वीडियो वायरल हुआ था और चारों तरफ से लोगों ने सेना के इस कार्यवाई पर सवाल उठाया था। बाद के खबरों से ये सामने आया था कि जिस युवक फारूक अहमद डार को सेनी ने अपनी गाड़ी के बोनेट पर बांधकर घुमाया था उसने कभी भी पत्थरबाजी नहीं थी। हालांकि कई वरिष्ठ सैन्य अधिकारियों ने ऐसा करने वाले मेजर की तारीफ की थी। इसके बाद यह बात भी सामने आया था कि फारूक अहमद डार वोट डालकर लौट रहा था, तभी जवानों ने उसे पकड़ लिया।

इसको लेकर पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने भी ट्वीट किया था और कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी की मांग की थी। बताया जा रहा है कि कोर्ट ने डार को भी बयान के बुलाया गया था। डार ने कोर्ट को बताया कि वो उस दिन वोट देने के लिए निकला था तभी आर्मी ने उसे पकड़ लिया और अपनी जीप के आगे बांधकर घुमाया। उसने कोर्ट को बताया कि इसके चलते उसके आंतरिक चोटे आई हैं।

TOPPOPULARRECENT