Wednesday , July 26 2017
Home / Uttar Pradesh / इस्लाम को मानने से शौहर ने किया इंकार, पत्नी ने कोर्ट में दी तलाक़ की अर्ज़ी

इस्लाम को मानने से शौहर ने किया इंकार, पत्नी ने कोर्ट में दी तलाक़ की अर्ज़ी

आगरा के फैमिली कोर्ट में एक दिलचस्प मामला सामने आया है, यहां एक दंपति ने तलाक की याचिका दायर की है, क्योंकि पति ने इस्लाम का पालन करने से इंकार कर दिया। पति यह बी चाहता है कि उनका होने वाला बच्चा भी इस्लाम फॉलो न करे जिससे पत्नी को ऐतराज़ है।

आगरा के मश्हूर बिजनेसमैन परिवार के व्यक्ति ने कश्मीरी महिला से साल 2012 में शादी की थी। कश्मीरी महिला डॉक्टर है। महिला से उन्होंने 2012 में अतिरिक्त विवाह (वित्त) आगरा के विशेष विवाह अधिनियम की धारा 13 के तहत शादी की थी। इस्लामी नागरिक कानून के मुताबिक शादी को भी लागू किया गया था और श्रीनगर, जम्मू और कश्मीर में काजी ने एक उचित निकमहनामा भी जारी किया था।

इस दंपति द्वारा दायर की गई याचिका के अनुसार, महिला ने कथित तौर पर अपने पति को हिंदू प्रथाओं और धर्म का पालन करने की अनुमति नहीं दी थी, जो उसकी सास और खुद के बीच दरार पैदा कर रही थी। ऐसे हालात पति को मानसिक रूप से परेशान करने वाले थे वो इस स्थिति को संभाल नहीं पा रहे थे।

इसके अलावा, पति ने अतिरिक्त जिला न्यायाधीश की अदालत को बताया कि उसकी पत्नी अजन्में बच्चे को इस्लाम का फॉलोवर बनानी चाहती है।

यह ध्यान रखना दिलचस्प है कि शादी के दौरान पति ने निकाहनामा के लिए अपना धर्म और नाम बदल दिया था, लेकिन बाद में विशेष विवाह अधिनियम के तहत विवाह पंजीकरण के दौरान अपनी मूल पहचान बनाए रखी।

दो याचिकाकर्ताओं ने अदालत से दावा किया कि उनके दोनों ने अपने रिश्ते को स्वस्थ रखने के लिए सभी संभव प्रयास किए लेकिन वो नाकाम हो गए, जिसके बाद महिला ने अपने पति को छोड़ दिया और उच्च शिक्षा के लिए हनोवर, जर्मनी चली गई।

वे अब अलग हो गए हैं यह मामला शुक्रवार को जिला परिवार अदालत में पेश किया गया और अगली सुनवाई जनवरी 2018 में हुई।

TOPPOPULARRECENT