Thursday , August 24 2017
Home / India / फिल्म या डॉक्यूमेंट्री में राष्ट्रगान बजने पर दर्शकों को खड़े होने की जरूरत नहीं : सुप्रीम कोर्ट

फिल्म या डॉक्यूमेंट्री में राष्ट्रगान बजने पर दर्शकों को खड़े होने की जरूरत नहीं : सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को साफ किया कि किसी फिल्म या डॉक्यूमेंट्री में राष्ट्रगान बजने के दौरान दर्शकों को खड़े होने की जरूरत नहीं है।

न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा और न्यायमूर्ति आर भानुमति की पीठ ने यह स्पष्टीकरण एक याचिका पर सुनवाई करते हुए दिया है जिसमे शीर्ष अदालत स्पष्ट करने की बात कही गई थी कि क्या फिल्म, वृत्त चित्र या समाचार फिल्म में राष्ट्रगान बजने पर भी दर्शकों से खड़ा होने की ज़रूरत है।

पीठ ने कहा कि यह स्पष्ट किया जाता है कि जब किसी फिल्म, समाचार फिल्म या वृत्तचित्र की कहानी के हिस्से के रूप में राष्ट्रगान बजता है तो दर्शकों को खड़ा होने की जरूरत नहीं है। पीठ ने कहा कि याचिकाकर्ताओं द्वारा उठाए गए बिन्दुओं पर चर्चा की आवश्यता है।

बता दें कि गए साल के आखिरी महीने में सुप्रीम कोर्ट ने सिनेमाघरों में राष्ट्रगान बजने से पहले सभी दर्शकों को सम्मान में खड़ा होने को कहा था। कोर्ट ने यह भी कहा था कि राष्ट्र गान बजते समय सिनेमाहॉल के पर्दे पर राष्ट्रीय ध्वज दिखाया जाना भी अनिवार्य है।

 

 

TOPPOPULARRECENT