Tuesday , May 30 2017
Home / Khaas Khabar / डिजिटल इंडिया: कंपनी के 3 खातों से उड़ा ले गए लाखों रुपए

डिजिटल इंडिया: कंपनी के 3 खातों से उड़ा ले गए लाखों रुपए

नोटबंदी के बाद से पीएम मोदी डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा दे रहे हैं। लोग डिजिटल ट्रांजेक्शन करने पर काफी जोर दे भी रहे हैं।

लेकिन डिजिटल ट्रांजेक्शन अभी इतनी सुरक्षित नहीं है। लोगों के बैंक एकाउंट्स हैक हो जाते हैं या फिर नेट बैंकिंग से फ्राड जैसे मामले होते रहते हैं।

अब नेट बैंकिंग के जरिये फ्रॉड का नया मामला इंदौर में देखने को मिला जहाँ के किसी अनऑथोराइज़ शख्स ने बैंक ऑफ इंडिया की पलासिया ब्रांच से दो कंपनियों के तीन विभिन्न खातों से 19 लाख 80 हजार रुपये निकाल लिए।

कंपनी के डायरेक्टर ने जानकारी देते हुए लिखा है:

”इस मेल के माध्यम से मैं नेट बैंकिग फ्रॉड की शिकायत कर रहा हूं। यह मामला तब ज्यादा आश्चर्यचकित करता है जब हमारे आदरणीय प्रधानमंत्री जी डिजिटल इकॉनमी को बढ़ावा देने की बात करते हैं।

मैं कल्स टैक्स प्राइवेट लिमिटेड और हिलमैन टैक्स प्राइवेट लिमिटेड का डॉयरेक्टर हूं। मेरी यह दोनों ऑफिस मुंबई से प्रमाणित हैं और दोनों कंपनियां मध्य प्रदेश के धार जिले के पिथामपुर औद्योगिक क्षेत्र सेक्टर 3 से निर्माण का काम करती हैं।

इन दोनों कंपनियों के चालू खाते बैंक ऑफ इंडिया इंदौर के पलासिया ब्रांच में है। दोनों खातों में नेट बैंकिंग की भी फैसिलिटी है। मैं नेट बैंकिंग का अधिकृत उपभोक्ता हूं।

3 मई 2017 को नेट बैंकिंग सुरक्षा का उल्लंघन हुआ, मेरे खाते से धोखाधड़ी की गई और कई ट्राजेक्शन के द्वारा कुल 19 लाख 80 हजार रुपये निकालने का फ्राड किया गया।

हमने इस मामले को बैंक, साइबर सेल इंदौर को सूचित किया है और अब आपसे रिपोर्ट कर रहा हूं क्योंकि हमारे देश में इंटरनेट बैंकिंग प्रणाली की भेद्यता के कारण इस मामले की रिपोर्ट की जानी चाहिए, जब हम सक्रिय रूप से बैंकिंग लेनदेन को अंजाम देने में लगे हुए हैं।”

बता दें कि एक तरफ तो इस तरह से डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा दिया जा रहा है और लोगों के बैंक खातों को आधार कार्ड के साथ भी जोड़ दिया जा रहा है। लेकिन इन जरूरी जानकारियों को सुरक्षित करने के लिए कुछ ख़ास कदम नहीं लिए जा रहे।

Top Stories

TOPPOPULARRECENT