Saturday , June 24 2017
Home / Khaas Khabar / कर्नाटक: गोरक्षकों ने आदिवासियों को घर में घुसकर पीटा, पुलिस ने पीड़ितों पर भी किया मुकदमा

कर्नाटक: गोरक्षकों ने आदिवासियों को घर में घुसकर पीटा, पुलिस ने पीड़ितों पर भी किया मुकदमा

कर्नाटक के शहर उडुपी में गोरक्षकों ने आदिवासियों के एक समारोह में घुसकर हमला किया है. कम से कम 13 गोरक्षकों ने गोहत्या के आरोप में तीन आदिवासी लड़कों की उनके घर में पिटाई की. उडुपी पुलिस ने हमलावरों पर नामजद मुक़दमा दर्ज कर लिया है. साथ ही पीड़ित आदिवासियों पर भी गोहत्या के आरोप में एफआईआर लिखी गई है. पीड़ित आदिवासी कोरगा समुदाय के हैं.

द हिंदू अख़बार से पीड़ित हरीश ने कहा है कि उनके भाई की सगाई की रस्म चल रही थी, तभी गोरक्षकों ने वहां पहुंचकर हमला कर दिया. वो अपने साथ पुलिस भी लेकर आए थे. उन्होंने मुझे, महेश और श्रीकांत पर बैल काटने का आरोप लगाकर पिटाई की. उन्होंने हमारे समाज की औरतों को गालियां दीं.

हरीश के मुताबिक इसके बाद पुलिस उन्हें गंगोली पुलिस स्टेशन लेकर आ गई. पुलिस ने उनपर और उनके दो रिश्तेदारों पर मुक़दमा दर्जकर गिरफ़्तार किया और फिर ज़मानत पर रिहा किया. हरीश बताते हैं, ‘हमलावर स्थानीय लड़के थे. हमे 2 बैल हिंदू समाज के लोगों ने दिया था. इस इलाक़े में एक दूसरे को बैल देन की सामान्य परंपरा है.’

कांग्रेस की स्थानीय नेता शकुंतला जो पीड़ित हरीश की रिश्तेदार हैं, वो भी सगाई की रस्म और हमले के दौरान वहां मौजूद थीं. उन्होंने कहा कि हरीश, महेश और श्रीकांत की ज़मानत उन्होंने ही करवाई है. हालांकि ज़मानत मिलने के बाद रात को तीन चार युवक दोबारा इन आदिवासियों के घर पहुंच गए. शकुंतला ने कहा, ‘इन्होंने हमें गालियां दीं और हमारे घर जलाने की धमकी दी. जिस गांव में आदिवासियों पर हमला किया गया है, वहां कोरगा समुदाय के महज़ आठ घर हैं. शकुंतला ने इस धमकी शिकायत पुलिस से कर दी है.

वहीं डीएसपी प्रवीण नायक का कहना है कि उन्हें सूचना मिली थी कि कुछ आदिवासी गोहत्या कर रहे हैं. हम मौक़े पर पहुंचे और शरथ नाम के एक शिकायतकर्ता की अर्ज़ी पर बैल काटने के आरोप में तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया. पुलिस ने यहां से भी काटे गए जानवर का नमूना उठाया है. डीएसपी नायक का कहना है कि अभी तक हमलावरों को गिरफ़्तार नहीं किया जा सका है, उनकी तलाश में छापेमारी की जा रही है.

 

Top Stories

TOPPOPULARRECENT