Saturday , September 23 2017
Home / Editorial / देश में बोलने की आज़ादी तो है, लेकिन बोलने के बाद आज़ादी नहीं!

देश में बोलने की आज़ादी तो है, लेकिन बोलने के बाद आज़ादी नहीं!

कर्नाटक की वरिष्ठ महिला पत्रकार गौरी लंकेश की कल बेंगलूरु में कुछ अज्ञात हमलावरों ने उनके घर के बाहर गोली मारकर हत्या कर दी। गौरी लंकेश को बाइक पर सवार हमलावरों ने बीती रात उस वक्त गोली मारी, जब वो दफ्तर से लौटकर अपने घर का दरवाज़ा खोलने जा रही थीं।

इस हत्या के बाद दिल्ली समेत कई जगहों पर विरोध प्रदर्शन शुरू हो गए। इसे कलबुर्गी, गोविंद पानसरे और नरेंद्र दाभोलकर की हत्या से जोड़ा जा रहा है और इसे अभिव्यक्ति की आजादी पर हमला बताया गया है। कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने तो इस घटना को ‘लोकतंत्र की हत्या’ करार दिया है।

गौरी लंकेश के मुंहबोले बेटे जेएनयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार ने इस हत्या पर दुख ज़ाहिर करते हुए कहा कि वह (गौरी लंकेश) हमेशा हमारे दिलों में ज़िदा रहेंगी। हम आपको बताते हैं कि गौरी लंकेश किस शख्सियत का नाम है जो मरने के बाद भी लोगों के दिलों में अमर हो गईं।

गौरी लंकेश कन्नड़ भाषा की साप्ताहिक ‘गौरी लंकेश पत्रिका’ की संपादक थीं। उन्हें निडर और बेबाक पत्रकार माना जाता था। गौरी कन्नड़ और अंग्रेजी दोनों भाषाओं में लिखती थीं। कन्नड़ पत्रकारिता में एक नए मानदंड स्थापित करने वाले पी लंकेश की बेटी गौरी लंकेश कर्नाटक की सिविल सोसायटी की चर्चित चेहरा थीं। इस पत्रिका के ज़रिए गौरी ने ‘कम्युनल हार्मनी फोरम’ को काफी बढ़ावा दिया।

गौरी लंकेश कई समाचार पत्र-पत्रिकाओं में कॉलम लिखती थीं। गौरी लंकेश जिस साप्ताहिक पत्रिका का संचालन करतीं थी उसमें कोई विज्ञापन नहीं लिया जाता था। उस पत्रिका को 50 लोगों का एक ग्रुप चलाता था।

दक्षिणपंथी से लोहा लेना बनी कत्ल की वजह !

वह वामपंथी विचारधारा से प्रभावित थीं और हिंदुत्ववादी राजनीति की मुखर आलोचक थीं। कहा जा रहा है कि उन्हें पिछले दो सालों से दक्षिणपंथी संगठनों की तरफ से धमकियां दी जा रही थीं।

पिछले साल बीजेपी सांसद प्रह्लाद जोशी की तरफ से दायर मानहानि मामले में गौरी लंकेश को दोषी करार दिया गया था, जिन्होंने उनके टैब्लॉयड में भाजपा नेताओं के खिलाफ एक खबर पर आपत्ति जताई थी।

गौरी लंकेश ने लेखिका और पत्रकार राणा अयूब की किताब गुजरात फाइल्स का कन्नड़ में अनुवाद भी किया था। बता दें कि गुजरात फाइल्स वो किताब है जिसमें गुजरात दंगों में बीजेपी राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भूमिका का ज़िक्र किया गया है।

TOPPOPULARRECENT