Friday , June 23 2017
Home / Khaas Khabar / CM योगी की बेहतरीन पहल, ग़रीब मुस्लिम बेटियों की शादी कराएगी UP सरकार

CM योगी की बेहतरीन पहल, ग़रीब मुस्लिम बेटियों की शादी कराएगी UP सरकार

उत्तरप्रदेश के सीएम बनने के पहले योगी आदित्यनाथ की छवि कट्टर हिंदू नेता के तौर पर रही है , यूपी का मुखिया बनते ही योगी आदित्यनाथ जो फैसले ले रहे हैं वो उनके समर्थकों और विरोधियों दोनों को चौंका रहे हैं। इसी कड़ी में योगी आदित्यनाथ गरीब मुस्लिम महिलाओं के लिए बड़ी सौगात लेकर आए हैं।
सीएम योगी आदित्यनाथ ने ये फैसला लिया है कि उत्तर प्रदेश में गरीब मुस्लिम महिलाओं की शादी अब राज्य सरकार कराएगी। मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि पंजीकृत श्रमिकों की दो बेटियों के विवाह के लिए स्वजातीय विवाह में 55,000 रुपए और अन्तर्जातीय विवाह में 61,000 रुपए की मदद कन्या विवाह अनुदान योजना के तहत उपलब्ध कराई जाएगी।

इस योजना के तहत होने वाली शादियां कल्याण मंडप के तर्ज पर कराई जाएंगी। गरीब निराश्रित मुस्लिम लड़कियों की शादी के लिए एक योजना बनाई जा रही है। इस योजना के तहत राज्य सरकार लड़के वालों की तरफ से लड़की के परिवार को मेहर देगी

अल्पसंख्यक विभाग की समीक्षा बैठक में योगी ने इस प्लान को हरी झंडी दिखा दी है। इसके लिए खाका तैयार किया जा रहा है हर साल लगभग 100 शादियां कराने का टारगेट रखा गया है. सद्भावना मंडप में होंगी ये शादी। उन्होंने ने कहा कि अगर ये योजना सफल रही और मुस्लिम परिवारों ने इसमें सहभागिता दिखाई तो इसे 6 महीने बाद फिर से आयोजित किया जाएगा। उन्होंने मुस्लिम महिलाओं की राय जानने के लिए कार्ययोजना तैयार करने का निर्देश देते हुए कहा कि इसके लिए विभागीय मंत्री और मंत्रिमण्डल की सभी महिला मंत्री महिला संगठनों के साथ बैठक करें।
मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि गरीब मुस्लिम महिलाओं की शादी में मेहर की रकम राज्य सरकार ही देगी। उन्होंने ने कहा कि अगर ये योजना सफल रही और मुस्लिम परिवारों ने इसमें सहभागिता दिखाई तो इसे 6 महीने बाद फिर से आयोजित किया जाएगा। उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि सुप्रीम कोर्ट में लम्बित तीन तलाक के केस में मुस्लिम महिलाओं की राय के आधार पर प्रदेश सरकार अपना पक्ष रखेगी। उन्होंने मुस्लिम महिलाओं की राय जानने के लिए कार्ययोजना तैयार करने का निर्देश देते हुए कहा कि इसके लिए विभागीय मंत्री और मंत्रिमण्डल की सभी महिला मंत्री महिला संगठनों के साथ बैठक करें।

Top Stories

TOPPOPULARRECENT