Thursday , August 17 2017
Home / Assam / West Bengal / गोवाहटी: गोरक्षकों ने वैध रूप से मवेशी ले जा रहे ड्राइवरों को बुरी तरह पीटा

गोवाहटी: गोरक्षकों ने वैध रूप से मवेशी ले जा रहे ड्राइवरों को बुरी तरह पीटा

representational-images-cow-vigilantes
THE WASHINGTON POST/GETTY IMAGES

तथा कथित गौरक्षकों का आतंक थमने का नाम ही नहीं ले रहा है। इनकी चौतरफा आलोचना होने के बावजूद इनका वहशीपना जारी है। एक ताज़ा मामला रविवार की शाम का है। गोरक्षकों ने गोवाहटी के करीब परिवहन के तीन वाहनों को रोका और ड्राइवर की जमकर पिटाई कर दी। जबकि मवेशियों को वैध पत्रों के साथ ले जाया जा रहा था। हालांकि पुलिस ने हमले की पुष्टि करने से इनकार कर दिया।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक पुलिस ने कहा कि गुवाहाटी से करीब 30 किमी पूर्व सोनापुर में उन्होंने एक रिपोर्ट पर एक्शन लिया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि हिन्दू छात्र युवा परिषद के एक स्थानीय इकाई के सदस्यों ने एक ट्रक और दो तीन पहिया वाहनों को मवेशी ले जाने से रोक दिया।

स्थानीय टीवी चैनलों ने कुछ लोगों को ड्राईवरों को पीटते हुए दिखाया है। लेकिन पुलिस ने हमले की पुष्टि नहीं की है क्योंकि “किसी ने भी शिकायत दर्ज नहीं किया” है।
सोनापुर पुलिस स्टेशन के एक अधिकारी ने कहा, कि “वाहन चालकों के पास मवेशियों के ले जाने के उचित कागजात थे। लेकिन हमने वाहनों के परमिट में कुछ खामियों का पता लगाया”। ट्रक पूर्वी असम के तिनसुकिया से आया था, जबकि तीन-पहिया वाहनों को स्थानीय स्तर पर ले जा रहे थे।

कामरूप (मेट्रो) जिला पुलिस कमिश्नर हिरेन नाथ ने कहा कि वह किसी भी समूह के बारे में नहीं जानते, जिसने पशुओं के ट्रांसपोर्टरों पर हमला किया था। उन्होंने कहा, कि “वाहनों को सत्यापन के लिए परिवहन विभाग को भेजा गया है, यह जांचने के लिए कि क्या वे अनुमति संख्या से अधिक मवेशी तो नहीं ले जा रहे हैं।”

पीटीआई रिपोर्ट ने एक पुलिस अधिकारी के हवाले से कहा कि हिंदू युवा छात्रा परिषद समूह डिमोरिया से था। अधिकारी ने कहा कि वाहनों और व्यक्तियों पर नियंत्रण कहने के लिए एक पुलिस दल को भेजा गया था। अधिकारी ने कहा कि ट्रांसपोर्टरों के पास पशुओं के परिवहन के लिए उचित चालान हैं।

गोवाहटी पुलिस डिप्टी कमिश्नर ने कहा कि “ड्राइवरों ने वाहनों को जिला परिवहन अधिकारी के कार्यालय में ले गया और किसी ने भी किसी भी तरह की शारीरिक हमले की शिकायत नहीं की। किसी ने कोई शिकायत दर्ज नहीं की है हम किसी भी तरह के हमले की पुष्टि नहीं कर सकते। ”
यह पूछे जाने पर की क्या यह गोरक्षकों का मामला है तो उन्होंने कहा कि यह जांच का विषय है, फ़िलहाल जांच की जा रही है।

TOPPOPULARRECENT