Wednesday , July 26 2017
Home / India / व्हीलचेयर नहीं मिली तो फहमीदा को मजबूरन अपने बीमार पति को फर्श पर घसीटते हुए ले जाना पड़ा

व्हीलचेयर नहीं मिली तो फहमीदा को मजबूरन अपने बीमार पति को फर्श पर घसीटते हुए ले जाना पड़ा

कर्नाटक के शिवमोग्गा जिले में इंसानियत को शर्मसार कर देने वाली घटना सामने आई है। यहाँ के अस्पताल मैकगैन में एक वृद्ध महिला को अपने बीमार पति को स्कैनिंग रूम तक ले जाने के लिए व्हीलचेयर नहीं मिलने पर फर्श पर घसीटते हुए ले जाना पड़ा।

इस घटना का वीडियो भी सामने आया है जिसमें करीब 75 वर्ष की आयु के आमिर साब को फहमीदा फर्श पर घसीटते हुए दिखाई दे रही है। यह घटना 31 मई को दोपहर की है। महिला पहले स्ट्रेचर के लिए इधर-उधर भटकती रही लेकिन जब उन्हें स्ट्रेचर नहीं मिला तो अपने पति को फर्श पर घसीटते हुए स्कैनिंग रूम तक ले गईं।

मरीज के अनुसार बार-बार अनुरोध के बावजूद उनकी पत्नी को अस्पताल कर्मियों ने व्हीलचेयर नहीं दी।

उन्होंने कहा कि व्हीलचेयर के लिए कई बार पूछने के बाद हम तंग आ चुके थे। फिर मेरी पत्नी मुझे खींच कर ले गई। आमिर साब ने संवाददाताओं से कहा कि हमने अस्पताल के अधिकारियों के खिलाफ आवाज उठाई तो व्हीलचेयर मिला।

उन्होंने कहा कि फर्श पर घसीटे जाने के बाद उनको पीठ में दर्द हो गया और उनकी शिकायत थी कि डॉक्टर ठीक से नहीं देख रहे हैं।

स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने बताया कि आमिर साब को 25 मई को फेफड़े की समस्या, श्वास संबंधी तकलीफ और शरीर में सूजन के कारण भर्ती किया गया था। जांच करने के बाद चिकित्सक ने 30 मई को पेट की स्कैनिंग की सलाह दी थी।

 

अस्पताल के अधिकारियों ने बताया कि ऐसी ‘दुर्भाग्यपूर्ण’ घटना नहीं होनी चाहिए क्योंकि यहां पर्याप्त व्हीलचेयर हैं। अस्पताल के अधिकारियों ने यह भी कहा कि दोषियों के बारे में जांच की जाएगी। चिकित्सा शिक्षा मंत्री शरण प्रकाश पाटिल घटना के सम्बन्ध में जांच के आदेश दिए हैं।

 

 

स्वास्थ्य मंत्री रमेश कुमार ने कहा कि अधिकारियों ने उन्हें बताया कि मरीज का परिवार व्हीलचेयर के लिए परेशान था। कुमार ने घटना के लिए जनता से माफी मांगते हुए उनसे अपील की कि इस तरह की घटनाओं के कारण सरकारी अस्पतालों के प्रति अपना भरोसा नहीं खोएं।

TOPPOPULARRECENT