Saturday , September 23 2017
Home / Uttar Pradesh / न्यायालय के प्रयास से एक हुए मियां-बीवी, तलाक को दिखाया ठेंगा

न्यायालय के प्रयास से एक हुए मियां-बीवी, तलाक को दिखाया ठेंगा

इलाहाबाद: तलाक का तरीका चाहे कैसा भी लेकिन सबसे बड़ा कारण आपसी मतभेद है जब पति और पत्नी किसी बात पर कहा सुनी करते हैं तो बात आगे बढ़ती है और तलाक पर आकर खत्म हो जाती है। आपसी विवाद के चलते एक दूसरे से अलग रह रहे पति-पत्नी को हाई कोर्ट ने खुशी-खुशी साथ रहने को मजबूर कर दिया। कोर्ट के प्रयास से एक दूसरे को न देखने की बात कहने वाले पति-पत्नी एकसाथ रहने की कसमें खाकर बच्चों के साथ विदा हुए। दो बच्चों की कस्टडी के लिए आपस में लड़ रहे मिया—बीवी ने हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। महिला जज जस्टिस भारती सप्रू ने जब इनका केस सुना तो उन्हें लगा कि, विवाद आपसी सुलह समझौते से मध्यस्थता से खत्म हो सकता है। कोर्ट ने इसके लिए दो वकीलों को पर्यवेक्षक नियुक्त किया और कहा कि, वे दोनों वकील इस दम्पत्ती से बात कर उनकी समस्या सुनें और समाधान भी कराएं। वकीलों ने दोनों से अलग-अलग मुलाकात की और शिकायतें सुनीं। दोनों की शिकायतों का हल निकालकर उन्हें साथ-साथ रहने को कहा गया। मध्यस्थता के बाद एक दूसरे को देखने से परहेज करने वाले यह दम्पत्ती आपस में कड़वाहट समाप्त कर एक साथ जिंदगी जीने को तैयार हो गए। पत्नी मेरठ की रहने वाली है जबकि, पति बागपत में रहता है। सुनवाई के बाद कोर्ट ने निर्देश दिया कि, पति, पत्नी के घर जाए और उसे अपने घर ले आये। कोर्ट ने 24 अप्रैल को इसकी जानकारी भी मांगी है कि, उसके आदेश का पालन हुआ या नहीं।

TOPPOPULARRECENT