Friday , May 26 2017
Home / Khaas Khabar / ISI जासूसी कांड में सतना गौरक्षा दल प्रमुख आशीष सिंह की तलाश में छापेमारी

ISI जासूसी कांड में सतना गौरक्षा दल प्रमुख आशीष सिंह की तलाश में छापेमारी

आईएसआई जासूसी कांड में नाम आने के बाद विश्व हिंदू परिषद ने गौरक्षा दल के प्रमुख आशीष सिंह राठौड़ को अपने संस्था से निष्कासित कर दिया है। विहिप ने औपचारिक तौर पर घोषणा की है कि आशीष सिंह राठौर को संगठन से निष्कासित किया जाता है। बजरंग दल के जिला सह-संयोजक सचिन शुक्ला ने बताया कि मीडिया में आई खबरों को आधार मानते हुए यह कार्रवाई की गई है।

गौरतलब है कि आईएसआई के लिए जासूसी करने के आरोप में विश्व हिन्दू परिषद के नेता बलराम सिंह को एटीएस ने पिछले दिनों गिरफ्तार किया था। बलराम कॉल सेंटर की आड़ में अपने 6 साथियों के साथ मिलकर आईएसआई के लिए जासूसी करता था। उसने बहुत से फर्जी बैंक खाते खुलवा रखे थे और उनका इस्तेमाल आईएसआई एजेंटों को पैसा मुहैया कराने में करता था।

बताया जा रहा है कि बलराम जिन खातों का इस्तेमाल करता था, उनके एवज में तयशुदा रकम उपलब्ध कराता था। बलराम के पास कुल 110 एटीएम कार्ड थे। उन एटीएम की मदद से वह अलग-अलग बैंक खातों से आई रकम को आईएसआई एजेंटों के खातों में डालता था। इसके बैंक खाते मध्य प्रदेश समेत देश के अन्य राज्यों में भी थे। इसी को ध्यान में रखते हुए बिहार, उत्तर प्रदेश और छत्तीसगढ़ की एटीएस टीमें उससे पूछताछ में जुटी हैं। दिल्ली की स्पेशल सेल भी उससे पूछताछ कर चुकी है।

बलराम समेत उसके छह साथियों से पूछताछ के बाद अब आशीष सिंह राठौर का नाम सामने आया है। एटीएस सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, आशीष सिंह और सी.बी. सिंह नामक एक युवक बलराम के लिए काम करते थे। फिलहाल एटीएस दोनों को तलाश में छापेमारी कर रही है।

बता दें कि इस मामले में गिरफ्तार मनीष गांधी, बलराम सिंह, ध्रुव सक्सेना और मोहित अग्रवाल की रिमांड अवधि को एटीएस ने चार दिन और बढ़वा लिया है। इसके अलावा एटीएस ने मनोज भारती और संदीप गुप्ता को भी मंगलवार को कोर्ट में पेशी कराई। इसके बाद इन दोनों को 27 फरवरी तक लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया।

Top Stories

TOPPOPULARRECENT