Monday , May 29 2017
Home / Islami Duniya / यह आतंकवादी और हत्यारे हैं, अनशन कर रहे फिलिस्तीनी क़ैदियों से कोई बातचीत नहीं होगी: इज़राइल

यह आतंकवादी और हत्यारे हैं, अनशन कर रहे फिलिस्तीनी क़ैदियों से कोई बातचीत नहीं होगी: इज़राइल

Masked militants from the Izzedine al-Qassam Brigades, a military wing of Hamas, hold posters of people held at Israeli jails and waving their party flags during a rally marking Palestinian Prisoners Day in Gaza City, Monday, April 17, 2017. An activist said more than 1,500 Palestinian prisoners have launched an open-ended hunger strike to demand better conditions in Israeli prisons, including more contact with relatives, and an end to Israel's practice of detentions without trial. (AP Photo/Adel Hana)

यरोशलेम: इज़राइल के सार्वजनिक सुरक्षा मंत्री गीलाद ईरदान ने निरर्थक भरे लहजे में कहा है कि अनशन करने वाले सैकड़ों फिलिस्तीनी कैदियों से कोई बातचीत नहीं की जाएगी। आपको बता दें कि इजरायली जेलों में सैकड़ों फिलिस्तीनियों ने अपनी मांगों के पक्ष में सामूहिक अनशन कर रखी है और आज उनका तीसरा दिन है। उनसे जेल में बंद लोकप्रिय फिलीस्तीनी नेता मरवान अलबर गोसी ने इजराइल के विरोध के रूप में भूख हड़ताल की अपील की थी।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

अल अरबिया डॉट नेट के अनुसार उन्होंने अपनी मांगों की एक सूची भी जारी की है और इजरायली अधिकारियों से बेहतर चिकित्सा सुविधाओं से लेकर टेलीफोन प्रदान करने तक विभिन्न मांगें किए हैं।

श्री ईरदान ने एक बयान में कहा है कि ”इजराइली अधिकारी इन कैदियों से कोई बातचीत नहीं करेंगे, वहीं क़ैदियों के नेता मरवान अलबर गोसी को एक दुसरे जेल में स्थानांतरित कर दिया गया है, और वहाँ उन्हें एकान्त कारावास में डाल दिया गया है। ”

इजरायली मंत्री ने सेना रेडियो से बातचीत करते हुए कि ” यह (फिलीस्तीनी) आतंकवादी और हत्यारे हैं और यह जिस चीज़ के हक़दार हैं, वह उन्हें दी जा रही है, इसलिए उनके साथ बातचीत का कोई मतलब नहीं बनता है। ”

गौरतलब है कि विजय आंदोलन के नेता मरवान अलबर गोसी इसराइल के खिलाफ दूसरी आंदोलन के दौरान अहम भूमिका निभाने पर पांच बार आजीवन कारावास की सजा भुगत रहे हैं. वे फिलिस्तीनियों के बहुत लोकप्रिय नेता हैं और सर्वेक्षणों के अनुसार वह जेल में बंद होने के बावजूद फिलीस्तीनी राष्ट्रपति का चुनाव भी जीत सकते हैं। उन्होंने सोमवार को फिलीस्तीनी कैदियों के वार्षिक दिवस के अवसर पर उनसे अनशन की अपील की थी।

Top Stories

TOPPOPULARRECENT